CVV Number क्या होता है और ATM कार्ड में CVC Code कहाँ होता है?

CVV Number: अगर आपका बैंक में खाता है और आप Debit Card या Credit Card का इस्तेमाल करते है तो आपने CVV Code के बारे में जरुर जानते होंगे। अगर आप नहीं जानते है की CVV नंबर क्या होता है और सीवीवी नंबर क्यों जरुरी होता है? तो इस लेख में आपको CVV Code के बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले है।

सीवीवी कोड एक ऐसा नंबर होता है जो आपके एटीएम कार्ड के पीछे होता है। जो बहुत ही महत्वपूर्ण नंबर होता है। जब आप कार्ड द्वारा ऑनलाइन भुगतान करते है तो आपसे कार्ड नंबर, एक्सपायरी डेट और CVV नंबर पूछा जाता है। तभी आपका पेमेंट पूरा हो पता है। अगर आप CVV नंबर नहीं डालेंगे तो आपका पेमेंट पूरा नहीं होगा। इसलिए इस नंबर को दुसरे व्यक्ति के साथ शेयर नहीं करना चाहिए।

CVV-number-kya-hota-hai--full-form-hindi-1

आएये बिना आपका समय गवाएं जानते है CVV Code क्या होता है और कार्ड में कहाँ होता है?  

CVV Number क्या है?

CVV का पूरा नाम “कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू” होता है। जो डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के पीछे मेग्नटिक स्ट्रिप पर प्रिंट 3 अंको का सिक्यूरिटी कोड होता है। जिसे पूरी तरह गोपनीय रखने की सलाह दी जाती है। इसके बिना एटीएम कार्ड द्वारा ऑनलाइन भुगतान नहीं होता है।

सीवीवी कोड का आविष्कार यूनाइटेड किंगडम (UK) में वर्ष 1995 में Michael Stone द्वारा किया गया था। CVV कोड को कार्ड वेरिफिकेशन कोड (CVC) के नाम से भी जाना जाता है। पहले यह 11 अंकों का सुरक्षा कोड हुआ करता था, लेकिन अब इसे 3 अंकों का सुरक्षा कोड बना दिया गया है।

ATM Card में CVV Number पीछे क्यों होता है?

Debit-credit-card-machine-payment
Debit-credit-card-machine-payment

सीवीवी नंबर (CVV Number) हमेशा एटीएम कार्ड, डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के पीछे लिखा होता है। क्योंकि यह ओटीपी जैसा एक सुरक्षा कोड है जिसके बिना ऑनलाइन भुगतान करना असंभव है। जब भी आप शॉपिंग के दौरान भुगतान करने के लिए POS Machine में कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो कार्ड का सामने वाला हिस्सा दिखाई देता है। इसलिए पीछे की तरफ CVV कोड लिखा होता है। ताकि यह किसी व्यक्ति को एक नजर में नजर न आए।

CVV का पूरा नाम क्या है? (CVV Full Form in Hindi)

CVV का पूरा नाम “Card Verification Value” है। जिसका हिंदी मतलब “कार्ड सत्यापन मूल्य” होता है। सीवीवी का दूसरा नाम “Card Verification Code(CVC) है, जिसका हिंदी मतलब “कार्ड सत्यापन कोड” होता है। एटीएम कार्ड की सुरक्षा को बनाये रखने के लिए CVV/CVC कोड को बनाया गया है।   

क्यों CVV Number जरुरी होता है?

CVV नंबर का इस्तेमाल डेबिट और क्रेडिट कार्ड की सिक्यूरिटी के लिए किया जाता है। इस नंबर की खास बात यह होती की किसी भी ऑनलाइन सिस्टम पर सेव नहीं किया जा सकता है। जिसकी वजह से आपका कार्ड सुरक्षित होता है।

जब आप ऑनलाइन शौपिंग करते है और कार्ड द्वारा भुगतान करता है तो कार्ड वेरिफिकेशन के लिए आपसे CVV Code माँगा जाता है। इससे यह पता किया जाता है की जो व्यक्ति कार्ड का इस्तेमाल कर रहा है ये वाही है या नहीं। इसलिए कार्ड जारी करने वाली वितीय संस्थाएं इस कोड को हमेशा सुरक्षित रखने के की सलाह देती है।   

Debit Card और Credit Card में CVV Code कहाँ होता है?

CVV-CVC-Number-on-Debit-Credit-Card
CVV-Number-on-Debit-Credit-Card

CVV Code आपके डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड पीछे वाले भाग में मैगनेटिक प्लेट पर 3 अंको का होता है। लेकिन अमेरिकन एक्सप्रेस कार्ड पर 4 अंको का सिक्यूरिटी कोड होता है जो कार्ड के आगे वाले भाग में पाया जाता है।   

CVC और CVV में अंतर क्या है?

CVC और CVV नंबर में कोई खास अंतर नहीं होता है, क्योकि दोनों का इस्तेमाल कार्ड की सिक्यूरिटी के लिए किया जाता है। आएये जानते है दोनों में मुख्य अंतर क्या है।

  • कार्ड वेरिफिकेशन कोड (CVC) का इस्तेमाल Master कार्ड द्वारा किया जाता है।
  • कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू (CVV) का इस्तेमाल VISA कार्ड द्वारा किया जाता है।
  • CVV और CVC नंबर को कार्ड के पीछे मैगनेट प्लेट पर ही होता है।
  • CVV और CVC नंबर के दो हिस्से होते है। जैसे- CVV1, CVV2  और CVC1, CVC2
  • CVV1/CVC1 का इस्तेमाल तत्कालीन लेनदेन के लिए किया जाता है। जिससे पता चलता है की कार्ड का इस्तेमाल कार्ड होल्डर द्वारा ही किया जा रहा है।
  • CVV1/CVC2 का इस्तेमाल Online Merchant करते है। इसमें कार्ड होल्डर भौतिक रूप से उपस्थित नहीं होता है। जिस वक़्त लेनदेन किया जाता है जब कार्ड होल्डर किसी Call, Email या Internet में उपस्थित होता है।  

CVV नंबर कैसे Generate होता है?

सीवीवी नंबर पूरी तरह से 3 अंको की एक यादृच्छिक संख्या (Rendom Numbr) है। जिसे उन कार्ड कंपनियों द्वारा तैयार किया जाता है जिन्हें बैंकों ने निर्धारित किया है।

अगर आप अपने कार्ड से CVV Code हटाते हैं। और अगर आप इसे थोड़ी देर बाद भूल जाते हैं, तो इसे पुनः प्राप्त नहीं किया जा सकता है। चूंकि यह कोड पूरी तरह से गोपनीय होता है, इसलिए बैंक इसका कोई रिकॉर्ड नहीं रखता है। यह कोड उनके सर्वर पर एन्क्रिप्ट (Encrypted) किया गया है जिसे पुनर्प्राप्त नहीं किया जा सकता है।

सीवीवी कोड भूल जाने की स्थिति में आपको नए कार्ड के लिए दोबारा आवेदन करना होगा।

क्या CVV Number लेना जरुरी है?

नहीं, यह पूरी तरह आप पर निर्भर करता है। अगर आप कार्ड द्वारा ऑनलाइन भुगतान करना चाहते है तो CVV लेना अनिवार्य हो जाता है। अगर आप नहीं चाहते है तो e-Payment करने के दुसरे Method का इस्तेमाल कर सकते है। जैसे – IMPS, NEFT, RTGS, UPI, आदि।

ATM PIN और CVV Code में क्या अंतर है।

ATM PIN और CVV Code दोनों का काम पूरी तरह से अलग होता है। ATM PIN का इस्तेमाल किसी भी ATM से पैसे निकालने के लिए Security Code के लिए किया जाता है। जबकि CVV Code आपके कार्ड के पीछे मैग्नेटिक प्लेट पर प्रिंट 3 अंको का सिक्यूरिटी कोड होता है। जिसका इस्तेमाल ऑनलाइन भुगतान के समय वेरिफिकेशन के लिए किया जाता है। जिससे यहाँ पता लगाया जाता है की भुगतान देने वाले व्यक्ति के पास कार्ड है या नहीं।

Video Credit: Gyan Point

इन्हें भी पढ़ें:

FAQ for CVV Number in Hindi  

CVV नंबर कितने अंको का होता है?

वर्तमान में CVV कार्ड का सिक्यूरिटी कोड 3-4 अंक होते है। जबकि शुरुवात में इसमें 11 अंक होते थे।

क्या हम CVV नंबर ऑनलाइन शौपिंग का भुगतान करने के लिए कर सकते है?

हाँ, आप सीवीवी कोड का उपयोग किसी भी विश्वसनीय ऑनलाइन शौपिंग वेबसाइट पर भुगतान करने के लिए कर सकते है। CVV कोड को आप स्वयं ही दर्ज करें किसी और व्यक्ति को नहीं दें। क्योकि यह एक गोपनीय नंबर है।

क्या CVV कोड को छुपा कर रखना चाहिए?

हाँ, आपको सीवीवी कोड को पूरी तरह से गोपनीय रखना चाहिए। इसके अलावा कार्ड पर मौजूद किसी भी नंबर को किसी दुसरे व्यक्ति को नहीं बताना चाहिए। अगर आप इसे छुपा कर नहीं रखेंगे तो आपको धन का जोखिम उठाना पड़ सकता है।

निष्कर्ष: ATM कार्ड में CVV नंबर क्या है?

उम्मीद करता हु की आपको हमारा लेख CVV Number क्या होता है और ATM कार्ड में CVC Code कहाँ होता है? आपको समझ में आ गया होगा। अगर आपके मन में CVV Number से सम्बंधित किसी प्रकार का सवाल है तो कमेंट करके पूछ सकते है। हम आपके सवालो का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे। अगर आपको लेख पसंद आये तो इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।

नमस्ते! मेरा नाम सोनू सिंह है और इस Best Hindi Blog पर अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से Blogging, Earn Money, बैंकिंग, इंटरनेट, टेक्नोलॉजी आदि से संबंधित उपयोगी और मददगार जानकारी शेयर करता हूं। साथ ही मैं WeKens.com का Founder भी हूं। हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद!

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.