EFT क्या है? इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रांसफर की पूरी जानकारी।

दोस्तों, हमने अपने पिछले ब्लॉग पोस्ट में E-Payment से जुड़ी जानकारी दी थी। इस लेख में, हम ईएफटी के बारे में जानेंगे, जो की ई-भुगतान का एक रूप है। इसमें हम जानेंगे कि “EFT क्या है? और EFT कितने प्रकार के होते हैं? (EFT के प्रकार) और साथ ही यह भी जानेंगे कि EFT का उपयोग करने के फायदे और नुकसान क्या हैं?

अगर आप EFT के बारे में सब कुछ जानना चाहते हैं तो यह ब्लॉग पोस्ट आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

EFT का फुल फॉर्म क्या है?

EFT का पूरा नाम Electronic Fund Transfer है। जिसे हिंदी में “इलेक्ट्रॉनिक निधी हस्तांतरण” कहते है। यह एक पेपरलेस भुगतान करने की प्रक्रिया है। इसके द्वारा आप पैसे को एक बैंक से दूसरे बैंक में आसानी से ट्रांसफर कर सकते है।

चलिए जानते है “Electronic Fund Transfer क्या है?”

EFT क्या है? (What is EFT?)

इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रांसफर को सरल भाषा में E-Payment भी कहते है। हम EFT के माध्यम से, पैसे (Fund) को एक बैंक से दूसरे बैंक में कंप्यूटर, ATM मशीन या वायर ट्रांसफर की मदद से बिना किसी कागज का इस्तेमाल किये भेजते है।

यह भुगतान करने का बहुत ही सुरक्षित और सरल तरीका है। इस Payment System की मदद से फण्ड को रियल समय में बहुत ही जल्दी ट्रांसफर किया जा सकता है।

इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रांसफर के प्रकार (Types of EFT)

माजूदा समय में इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रांसफर करने के कई प्रकार है। लेकिन हम यहाँ सबसे ज्यादा प्रचलित इस्तेमाल लिए जाने वाले EFT के प्रकारो के बारे में बताएँगे। जो की निम्न प्रकार से है।

इंटरनेट बैंकिंग (Internet Banking)

इंटरनेट बैंकिंग को हम Online Banking या Net बैंकिंग भी कहते है। इसमें बैंक अपने ग्राहकों को बैंक वेबसाइट का इस्तेमाल करके भुगतान करने की सुविधा प्रदान करता है। इस सुविधा के लिए आपको बैंक से अथॉरिटी लेना आवश्यक है। बैंक से यह सुविधा मिलने के बाद आप अपने कंप्यूटर, मोबाइल और टेबलेट का इस्तेमाल करके अपने बैंक खाते से किसी भी अन्य बैंक खाते में पैसे ट्रांसफर कर सकते है।

डेबिट कार्ड (Debit Card)

Debit Card को प्लास्टिक कार्ड भी कहते है। बैंकों अपने ग्राहकों को एटीएम से पैसे निकालने, POS मशीन से भुगतान, आदि के लिए डेबिट कार्ड जारी करती हैं। इसका इस्तेमाल करके बैंक ग्राहक किसी भी ATM Machine से पैसे निकल सकते है एवं किसी भी POS मशीन से भुगतान कर सकते है।

क्रेडिट कार्ड (Credit Card)

Credit Card से हम किसी भी तरह का भुगतान कर सकते है। यह दिखने में Debit Card की तरह ही दीखता है। बैंको द्वारा अपने ग्राहकों को यह सुविधा प्रदान की जाती है। जो एक निश्चित अवधि के लिए लघु ऋण (Small Loan) देता है। जिसमें भुगतान करने की अधिकतम सीमा (Limit) होती है, जिसे ब्याज (Interest) की दर वापसी के दिन तक तय की जाती है।

डायरेक्ट डिपाजिट (Direct Deposit)

यह भुगतान करने सबसे सुरक्षित तरीका है। इसका इस्तेमाल ज्यादातर बड़ी कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों को भुगतान के लिए किया जाता है। जिसमे बैंको द्वारा कंपनी एम्प्लोयी के बैंक अकाउंट में सीधे पैसे ट्रांसफर किया जाता है।

वायर ट्रांसफर (Wire Transfer)

वायर ट्रांसफर पैसे भेजने का सबसे तेज़ और सुरक्षित तरीका है। इस भुगतान विधि का उपयोग तब किया जाता है जब हमें किसी व्यक्ति को अधिक पैसे ट्रांसफर करना होता है।

एटीएम मशीन (Automatic Teller Machine)

आज के समय में शायद ही कोई होगा जिसने एटीएम मशीन न देखी हो या इस्तेमाल न किया हो। इसके द्वारा आप दूर स्थित किसी भी एटीएम मशीन से पैसे निकाल या जमा कर सकते हैं। आपको अपने बैंक जाने की कोई आवश्यकता नहीं है।

इलेक्ट्रॉनिक चेक (Electronic Cheque)

जिस तरह से पेपर चेक होता है ठीक उसी तरह से यह इलेक्ट्रॉनिक चेक होता है। यह डिजिटल होने की वजह से इसे हम इलेक्ट्रॉनिक चेक कहते है। इस विधि से भुगतान करने के लिए आपके पास भुगतान करने वाले व्यक्ति का खाता संख्या, राउटिंग नंबर, सिक्योरिटी कोड की आवश्यकता होती है।

इस प्रकार की भुगतान पद्धति में नुकसान की संभावना बहुत कम होती है। क्योंकि इसमें पेमेंट करने से पहले आप पूरी तरह से वेरिफाई कर सकते हैं कि पेमेंट सही हो रहा है या नहीं।

मोबाइल वॉलेट (Mobile Wallet)

डेमोनेटिज़ेशन के बाद सबसे ज्यादा इस भुगतान विधि का इस्तेमाल किया जाता है। क्योकि यह एक बहुत ही सरल भुगतान विधि है। क्योकि इस प्रक्रिया से भुगतान करने के लिए आपको ज्यादा जानकारी की आवश्यकता नहीं होती है। इसमें केवल भुगतान करने वाले व्यक्ति का UPI Mobile नंबर चाहिए होता है।

EFT के लाभ (Advantage of Electronic Fund Transfer )

EFT के प्रमुख लाभ निम्न प्रकार से है।

  • रियल समय पर भुगतान होने से समय की बचत होती है।
  • खर्चे पर पूरा नियंत्रण रहता है।
  • नगद भुगतान की तुलना में EFT करना ज्यादा फायदेमंद है क्योकि इसमें रिस्क और नुकसान की सम्भावना कम होती है।
  • भुगतान करने का यह एक बहुत ही सरल प्रक्रिया है।
  • आप अपनी सुविधा के अनुसार कभी भी भुगतान कर सकते है।

EFT के हानि (Disadvantage of Electronic Fund Transfer)

EFT के जितने लाभ है उसी तरह इसके कुछ नुकसान (Disadvantage) भी है। जो की निम्न प्रकार से है।

  • इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रांसफर करने के दौरान कभी-कभी सर्वर डाउन होने की वजह से आपका भुगतान बिच में ही रुक जाता है। जिसकी वजह से आपको भुगतान करने में देरी हो जाती है।
  • टेक्नोलॉजी के ज्यादा उपयोगिता बढ़ने से ऑनलाइन हैकर्स भी बढ़ते जा रहे हैं। जिसकी वजह से आपको धन हानि की सम्भावना होती है। इसलिए अपनी प्राइवेसी किसी के साथ शेयर नहीं करें।
  • इंटरनेट सर्वर स्लो होने से भुगतान करने में प्रॉब्लम होती है।
  • EFT करते समय हमें बहुत सावधान रहने की आवश्यकता होती है। हमारी जरा सी गलत जानकारी नुकसान में डाल सकती है।

FAQ for Electronic Fund Transfer in Hindi

EFT से आप क्या समझते हैं?

इलेक्ट्रॉनिक फ़ंड ट्रांसफ़र (EFT) कंप्यूटर, मोबाइल, टेबलेट के द्वारा एक बैंक खाते से दूसरे बैंक खाते में पैसे ट्रांसफर करने की एक विधि है।

EFT का Full Form क्या है?

EFT का फुल फॉर्म “Electronic Fund Transfer” है। जिसे हिंदी में “इलेक्ट्रॉनिक निधि हस्तांतरण” कहते है।

निधि हस्तांतरण का मतलब क्या होता है?

निधि हस्तांतरण एक हिंदी शब्द है। जिसे इंग्लिश में Fund Transfer कहते है। एक बैंक खाते से दूसरे बैंक खाते में इलेक्ट्रॉनिक निधि हस्तांतरण (Electronic Fund Transfer) है। यह कार्य हम बिना किसी बैंक हस्तक्षेप के अपने कंप्यूटर द्वारा करते है।

क्या, EFT से भुगतान करना सुरक्षित है?

हाँ, EFT एक सुरक्षित तरीका है भुगतान करने का।

क्या कोई भी व्यक्ति इलेक्ट्रॉनिक भुगतान कर सकता है।

नहीं, केवल वही व्यक्ति इलेक्ट्रॉनिक भुगतान कर सकता है जिसका बैंक खाता हो और बैंक ने उस व्यक्ति को इलेक्ट्रॉनिक भुगतान करने की अनुमति दी हुई हो।

निष्कर्ष : EFT क्या है?

दोस्तों, हम आशा करते हैं कि आप समझ गए होंगे कि “EFT क्या है? और Electronic Fund Transfer के प्रकार क्या है ? और साथ आप यह भी समझ गए होंगे कि इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रांसफर के लाभ और हानि क्या है?

आपको कैसी लगी हमारी पोस्ट EFT क्या है? और Electronic Fund Transfer की पूरी जानकारी? हिंदी में हमें कमेंट बॉक्स में Comment करके जरूर बताये। यदि Virtual Payment Address के बारे में कोई प्रश्न हो, तो कृपया इनबॉक्स Comment करें। हम आपके प्रश्न का पूरी तरह से उत्तर देने का प्रयास करेंगे।

About Sonu Singh

Hello friends, I am Sonu Singh, Author & Co-Founder of wekens. Talking about education, I am a graduate. I love to learn and learn about technical news, top story, history. I request you that you keep supporting us in this way and we will continue to provide new information for you. #wekens Team, Digital India, Jai Hind

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.