FasTag क्या होता है? फास्टैग कैसे एक्टिव करें? पूरी जानकारी।

दोस्तों हम इस ब्लॉग लेख में जानेंगे FasTag क्या है? फास्टैग को कैसे एक्टिवटे करें? और फास्टैग कैसे काम करता है? और साथ ही जानेंगे हम अपनी गाड़ी के लिए फास्टैग कैसे बनाये? यदि आप फास्टैग से सम्बंधित सवालो के जवाब चाहते है तो यक़ीनन यह ब्लॉग आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाला है।

फास्टैग को भारत सरकार द्वारा 2016 में देश की सभी नेशनल हाईवे पर लागू किया गया था। जिसे 16 फरवरी 2021 से फास्टैग (FASTag) को सभी वाहनों के लिए अनिवार्य कर दिया गया है।

FasTag क्या है?

FasTag एक इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक (Electronic Toll Collection) है। जो आपके गाड़ी के विन्डो स्क्रीन पर लगाया जाता है। ताकि नेशनल हाईवे (NH) टोल प्लाजा मौजूद सेंसर इसे पढ़ सके। इसे लगाने के बाद जब भी आपका राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) के टोल प्लाजा पर जाता है। टोल प्लाजा पर लगा सेंसर विन्डोसक्रीन पर मौजूद FasTag स्टीकर को ट्रैक करता है। और टोल प्लाजा पर शुल्क स्वचालित रूप से आपके FASTag खाते से काट लिया जाता है। इसके लिए आपकी गाड़ी को टोल प्लाजा पर रुकने की जरूरत नहीं है।

Tracking System of FasTag

फास्टैग कहाँ से ख़रीदे?

नयी गाड़ी खरीदते समय जैसे डीलर आपको आरसी देता है वैसे ही फास्टैग देगा। इसके लिए आपको अलग से चार्जेज देने होते है। यदि आपके पास पहले से कोई गाड़ी है तो उसके लिए इसे नेशनल हाईवे के Point of Sale (POS) से भी खरीद सकते है। इसके अलावा आप Paytm, Airtel, Axis Bank, HDFC Bank, SBI Bank, ICICI Bank, IDFC Bank से भी खरीद सकते है।

फास्टैग खरीदने के लिए आवश्यक डाक्यूमेंट्स क्या है।

FasTag खरीदने के लिए निम्नलिखित डोक्युमेन्ट्स की आवश्यकता होती है।

  • जारीकर्ता बैंक द्वारा प्रदान किया गया हस्ताक्षरित FASTag आवेदन पत्र
  • गाड़ी का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC)
  • वाहन मालिक का पासपोर्ट साइज फोटो
  • KYC डाक्यूमेंट्स (Driving License, PAN, Voter ID, Passport, Aadhaar Card)
  • वैलिड ड्राइविंग लाइसेंस
  • व्हीकल फोटो (वैकल्पिक)

ऊपर दिए गए दस्तावेजों से आप फास्टैग आसानी से खरीद सकते है। इसके अलावा डाक्यूमेंट्स इस बाद पर भी निर्भर करता है किया गाड़ी कमर्सिअल है या प्राइवेट।

फास्टैग कार्ड कैसे बनता है?

FasTag बनाने के लिए NETC (National Electronic Toll Collection) के पार्टनर्स बैंको /वितरक एजेंटो / टोल प्लाजा आउटलेट्स पर जाकर बनवा सकते है। इसके अलावा आप स्वयं सम्बंधित जारीकर्ता बैंक की आधिकारिक वेबसाइट या नेशनल हाईवे की वेबसाइट http://www.nhai.gov.in पर जाकर फास्टैग के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते है।

FASTag जारी करने वाले बैंक कौन से हैं?

फास्टैग जारी करने वाले बैंको की सूचि निम्न है।

ICICI Bank (आईसीआईसी बैंक)
PayTm Payments Bank (पेटम पेमेंट बैंक)
IDFC FIRST Bank (आईडीएफसी फर्स्ट बैंक)
SBI Bank (स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया)
HDFC Bank (एचडीएफसी बैंक)
Axis Bank (एक्सिस बैंक)
Equitas Bank (इक्विटास बैंक)
KVB Bank (केविबी बैंक)
Kotak Mahindra Bank (कोटक महिंद्रा बैंक)
YES Bank (यस बैंक)
Bank of Baroda (बैंक ऑफ़ बरोदा)
City Union Bank ( सिटी यूनियन बैंक)
Federal Bank (फ़ेडरल बैंक)
South Indian Bank (साउथ इंडियन बैंक)
IndusInd Bank (इंडसइंड बैंक)
Saraswat Coop Bank (सारस्वत कॉप बैंक)
Airtel Payments Bank (एयरटेल पेमेंट बैंक)
Syndicate Bank (सिंडिकेट बैंक)
PNB Bank (पंजाब नेशनल बैंक)
Nagpur Nagarik Coop Bank (नागपुर नागरिक कॉप बैंक)
Union Bank (यूनियन बैंक)
Fino Payments Bank (फिनो पेमेंट बैंक)
Canara Bank (कैनरा बैंक)

लाइव मेंबर्स बैंको की सूचि देखने के लिए NPCI की वेबसाइट पर विजिट करें।  https://www.npci.org.in/netc-live-members

FasTag कैसे एक्टिव करें?

फास्टैग को डीलर से खरीदने के बाद इसे एक्टिवटे करना जरुरी है। जिसके लिए आपको स्मार्टफ़ोन में प्लेस्टोर से NHAI की FasTag App डाउनलोड करनी है। इसके बाद निम्न स्टेप्स को फॉलो करें।

  • FasTag App को फ़ोन में इनस्टॉल करें।
  • इसके बाद FasTag के सीरियल नंबर के साथ रेजिस्टर्ड करें।
  • एप्प में मांगी गयी सभी जानकारी पूर्ण रूप से दर्ज करें।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपका फास्टैग एप्प एक्टिवटे हो जायेगा।
  • इसके बाद अपने फास्टैग वॉलेट को ऑनलाइन रिचार्ज करें।

आप एक फास्टैग को सिर्फ एक ही गाड़ी में इस्तेमाल कर सकते है। आपके फास्टैग अकाउंट सम्बन्धी सभी जानकारिया इसी एप्प पर मिल जाएँगी।

FasTag कैसे काम करता है?

FASTag एक रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टेक्नोलॉजी-आधारित स्टिकर है जिसे वाहन की विंडो स्क्रीन पर लगाया जाता है। जब भी आपका वाहन टोल प्लाजा पर जाएगा तो वहां RFID रीडर होंगे जो आपके वाहन पर लगे FasTag को स्कैन करेंगे। एक बार स्कैन करने के बाद आपके FasTag खाते से भुगतान हो जाएगा। भुगतान की जानकारी आपके दिए गए मोबाइल नंबर पर एक एसएमएस के माध्यम से प्राप्त होगी।

Sticker FasTag

फास्टैग (FasTag) के फायदे क्या है?

FasTag के निम्न फायदे है जो इस प्रकार से है।

  • इससे समय की बचत होती है। क्योकि टोल भुगतान के लिए समय हमें रुकना है पड़ता है।
  • टोल प्लाजा पर हमें रुकना नहीं पड़ता है। जिसकी वजह से ईंधन बचत , प्रदुषण काम और समय की बचत होती है।
  • कैशलेस भुगतान होने से हमें ऑफर भी मिल जाता है। और डिजिटल इंडियन बनाने में एक अहम् भूमिका है।
  • कैशलेस भुगतान होने से ट्रांसपरेंसी बानी रहती है। गड़बड़ी की कोई गुंजाईश नहीं होती है।
  • डिजिटल टोल भुगतान होने से संक्रमण का खतरा कम होता है।

फास्टैग को कैसे रिचार्ज करें?

FASTag को एक्टिवटे करने के बाद आप अपने फास्टैग वॉलेट को ऑनलाइन रिचार्ज कर सकते है। जिसके लिए किसी भी e-Payment सुविधा का इस्तेमाल कर सकते है। जैसे – Paytm, Phonepe, Google Pay, Bhim UPI, Credit Card, Debit Card, Net Banking, आदि।

आपको बता दे की FasTag की वैलिडिटी 5 वर्ष की होती है।आप फास्टैग वॉलेट में कम से कम 100 रुपये और अधिकतम 10,000 रुपये का रिचार्ज कर सकते है। यदि आपका फास्टैग अकाउंट KYC किया हुआ है तो 1,00,000 रुपये तक फास्टैग वॉलेट में रख सकते है।

गाड़ी पर फास्टैग कैसे लगाए?

आप फास्टैग को नेशनल हाईवे के पॉइंट ऑफ़ सेल से खरीद सकते है या बैंको ( Paytm, Airtel, Axis Bank, HDFC Bank, SBI Bank, ICICI Bank, IDFC Bank ) से खरीद सकते है। फास्टैग खरीदने के लिए गाड़ी की आरसी, गाड़ी मालिक का पासपोर्ट साइज फोटो, और KYC (PAN, Voter ID, Aadhaar Card, Passport) डोक्युमेन्ट्स चाहिए।

फास्टैग खरीदने के बाद, इसके प्लास्टिक कवर को निकल कर अपने गाड़ी की विंडो स्क्रीन पर लगाए। इसके बाद निचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सबसे पहले उस बैंक की वेबसाइट या मोबाइल एप्प को अपने फ़ोन में खोले।
  • इसके बाद फास्टैग एक्टिवेट पर क्लिक करें।
  • अब दिए गए विकल्प को फॉलो करें।
  • सभी स्टेप्स को फॉलो करने के बाद आपका फास्टैग अकाउंट चालू हो जायेगा।
  • फास्टैग वॉलेट को ऑनलाइन रिचार्ज करें। जिसके लिए आप Credit Card, Debit Card, या UPI का इस्तेमाल कर सकते है।

FAQ: FasTag (फास्टैग)

मैं अपना FASTag कैसे बदल सकता हूँ?

अपना फास्टैग बदलने के लिए अपने बैंक की वेबसाइट या NETC की ग्राहक सेवा डेस्क पर जाकर संपर्क करें।

फास्टैग डिलीवरी में देरी हो रही है कहाँ संपर्क करें?

FASTag की डिलीवरी में देरी के संबंध में कृपया अपने जारीकर्ता बैंक के शिकायत ग्राहक सेवा डेस्क से संपर्क करें।

फास्टैग ख़राब हो गया है क्या करें?

फास्टैग ख़राब हो जाने पर आप अपने बैंक से संपर्क करें और इसे बदलने के लिए अनुराध करें।

FASTag की वैधता क्या है?

FasTag की वैधता 5 वर्ष है और इसे खरीदने के बाद, केवल अपने इस्तेमाल के अनुसार FasTag Wallet को रिचार्ज / टॉप अप करना होगा।

मैं FasTag का मासिक पास कैसे प्राप्त कर सकता हूँ?

FasTag की मासिक पास सुविधा प्रत्येक टोल प्लाजा के लिए विशिष्ट है। इसके जानकारी के लिए आप टोल फ्री कस्टमर केयर से संपर्क कर सकते हैं। आप NHAI की वेबसाइट पर मासिक पास सुविधा का भी लाभ उठा सकते हैं।

FASTag लेने के लिए क्या शुल्क हैं?

भारत सरकार निर्देनुसार FasTag की कीमत अधिकतम 100 रुपये है। हालाँकि कुछ बैंक इसे फ्री में भी दे रहें है।

यदि मेरा FASTag टोल प्लाजा पर काम नहीं करे तो क्या करें?

अगर आपका टोल प्लाजा पर FASTag काम नहीं कर है, तो आपको 1033 टोल-फ्री नंबर पर कॉल करना चाहिए और शिकायत दर्ज करनी चाहिए। 1033 कॉल सेंटर NHAI द्वारा सभी राजमार्ग सड़क सहायता के लिए स्थापित किया गया है, जिसमें FASTag भी शामिल है।

Video Credit: Khan GS Research Centre

निष्कर्ष: FasTag क्या है?

दोस्तों, उम्मीद है की मैंने आपको FasTag क्या है? फास्टैग कैसे एक्टिव करें ? के बारे में पूरी जानकारी दी है। और उम्मीद करता हु की FasTag कैसे रिचार्ज करें और कैसे काम करता है आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा।

आपको कैसी लगी हमारी पोस्ट FasTag क्या है? फास्टैग कैसे एक्टिव करें ? हमें कमेंट बॉक्स में Comment करके जरूर बताये। इसके अलावा आपके मन में कोई सवाल है तो आप comment box में पूछ सकते है। मै पूरी कोशिश करूँगा आपके सवालो का जवाब देने की।

Sonu Singh

Hello friends, I am Sonu Singh, Author & Co-Founder of wekens. Talking about education, I am a graduate. I love to learn and learn about technical news, top story, history. I request you that you keep supporting us in this way and we will continue to provide new information for you. #wekens Team, Digital India, Jai Hind

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.