Mutual Fund क्या है? म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश क्यों करें? पूरी जानकारी

Mutual Fund Kya Hai– दोस्तों अगर आप निवेश करने की योजना बना रहे हैं तो आपने बाजार में म्युचुअल फंड का नाम तो सुना ही होगा। क्योंकि Mutual Fund SIP यह एक बहुत ही लोकप्रिय निवेश योजना है। यदि आप नहीं जानते हैं कि “Mutual Fund क्या है?” “म्यूचुअल फंड में निवेश क्यों करें?” “Mutual Fund फंड कितने प्रकार के होते हैं?” “Mutual Fund निवेश कैसे करें?” और इसके क्या फायदे हैं तो यह लेख आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण होने वाला है।

Mutual Fund क्या है?

म्यूच्यूअल फण्ड एक ऐसी कंपनी होती है, जो कई व्यक्तियों के फण्ड को एक जगह एकत्र करके। उन्हें Equity Mutual Fund ( कंपनियों के Stocks, Shares) और Debt Mutual Funds (Bonds, Corporate Fix Deposit) में निवेश करती है।

म्यूच्यूअल फण्ड निवेश को एसेट मैनेजमेंट कंपनियों द्वारा मैनेज किया जाता है। और कंपनी द्वारा लोगो को निवेश करने के लिए कई तरह के स्कीम देती है।

Mutual Fund के देख रेख के लिए एक फंड मैनेजर बनाया जाता है, जो म्यूचुअल फंड के जमा धन, लाभ, हानि और नियमों की निगरानी करता है।

म्यूच्यूअल फण्ड कंपनी निवेशकों के पैसे को एकत्र करके उसे मार्किट में सही जगह इन्वेस्ट करती है। और निवेशकों को ज्यादा से ज्यादा प्रॉफिट दिलाने का प्रयाश करती है।

कंपनी फण्ड को मैनेज करने के बदले में निवेशकों से कुछ राशि भी चार्ज करती है।

Mutual Fund Kaise Kaam Karta Hai

Mutual Fund कितने प्रकार का होता है?

म्यूच्यूअल फण्ड मुख्यतः 3 प्रकार के होते है। जो निम्न प्रकार से है।

Equity Mutual Fund (इक्विटी म्यूच्यूअल फण्ड)

यहाँ पर आपका पैसा सीधे शेयर मार्किट में निवेश किया जाता है। इसलिए इस स्कीम को बहुत जोखिम भरा मन जाता है। लेकिन जितना यहाँ जोखिम देखने को मिलता है उतना यहाँ प्रॉफिट भी देखने को मिलता है। यदि इस स्कीम में आप लम्बी अवधि के लिए निवेश करते है तो आपको अच्छा खासा रिटर्न मिलता है।

इस स्कीम में आपको इंडेक्स फण्ड का भी विकल्प मिलता है जिसमे आप अलग-अलग कंपनियों को चुन कर निवेश कर सकते है।

इक्विटी म्यूच्यूअल फण्ड के निम्न प्रकार होते है।

  • Large Cap
  • ELSS
  • Small Cap
  • Fund Sector Fund
  • Fund Midcap
  • Thematic Fund
  • Dividend Yield Scheme
  • Diversified Fund

Debt Mutual Fund (डेब्ट म्यूच्यूअल फण्ड)

डेब्ट म्यूच्यूअल फण्ड में आपके पैसो को बांड्स और कॉर्पोरेट फिक्स्ड डिपाजिट में इन्वेस्ट किया है। इसमें वार्षिक रिटर्न लगभग 8% से 9% तक रहता है। और इसकी समय अवधि भी कम होती है।

इस स्कीम में जोखिम कम होता है। और ज्यादातर निवेशक कम समय में अधिक पैसा कामना चाहते है।

डेब्ट म्यूच्यूअल फण्ड 4 प्रकार के होते है।

  • Fixed Maturity
  • Unk Fund
  • Gilt Fund
  • Plans Liquid Schemes

Hybrid Mutual Fund (हाइब्रिड म्यूच्यूअल फण्ड)

इस योजना में एक से अधिक Asset में निवेश किया जा सकता है। इस योजना में इक्विटी म्यूचुअल फंड और डेट म्यूचुअल फंड दोनों योजनाओं में निवेश किया जाता है।

हाइब्रिड म्यूच्यूअल फण्ड 3 प्रकार के होते है।

  • Monthly Income
  • Plan Balanced
  • Fund Arbitrage Fund
Video Credit: Dhruv Rathee

Mutual Fund में निवेश क्यों करें?

यह सवाल हर व्यक्ति के मन में होता है। तो चलिए हम कुछ आसान से चरणों में आपको समझने की कोशिश करते है।

Easy to Manage (प्रबंधित करने में आसान)

आप म्यूचुअल फंड को कभी भी खरीद या बेच सकते हैं। लेकिन जब आप सावधि जमा (एफडी), बीमा, आरडी या पीपीएफ में निवेश करते हैं, तो आप केवल बैंकिंग कार्यकाल के दौरान ही खरीद या बेच सकते हैं।

Multiple Choice (कई विकल्प)

आप म्यूच्यूअल फण्ड में कम निवेश करके ज्यादा बांड्स और स्टॉक खरीद सकते है। म्यूच्यूअल फण्ड में आपका पैसा एक जगह निवेश नहीं किया है बल्कि छोटे छोटे हिस्सों में कई जगह निवेश किया जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि किसी एक क्षेत्र में मंडी आने से दूसरे क्षेत्र से लाभ कमा कर नुकसान को कम किया जा सके।

Transparency (पारदर्शिता)

म्युचुअल फंड पूरी तरह से पारदर्शी होता हैं। क्योंकि यह सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) द्वारा रेगुलेट किया जाता है। नेट एसेट वैल्यू (एनएवी) की घोषणा उनके द्वारा प्रतिदिन की जाती है। उनके पोर्टफोलियो की घोषणा हर महीने की जाती है और इसकी जानकारी लोगों को दी जाती है।

Low Fees (कम फीस)

म्यूचुअल फंड का व्यय अनुपात बहुत कम है। यह खर्च आपके फंड को मैनेज करने के लिए AMC (एसेट मैनेजमेंट चार्ज) को दिया जाता है। इस व्यय की दर लगभग 2% होती है।

म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश कैसे करें?

म्यूचुअल फंड में निवेश करने के लिए सबसे पहले आपको किसी म्यूचुअल फंड विक्रेता से संपर्क कर केवाईसी (KYC) करवाना होगा। KYC के दौरान कुछ जरुरी डाक्यूमेंट्स की आवश्यकता होगी। जैसे- PAN Card, Aadhar Card, Bank Details आदि।

इसके अलावा आप म्यूच्यूअल फण्ड की वेबसाइट पर जाकर भी पूरी जानकारी ले सकते है और अपना ऑनलाइन KYC प्रक्रिया पूरी कर सकते है।

यदि आपका कोई जानकर या किसी भी नजदीकी Mutual Fund Advisor से म्यूच्यूअल स्कीम की जानकारी ले सकते है।

आप एंड्राइड फ़ोन यूजर है तो प्ले स्टोर से Mutual Fund Apps को डाउनलोड करके निवेश योजना बना सकते है।

Top 5 म्यूच्यूअल फण्ड Apps

दोस्तों मेरी सलाह है की आप किसी नजदीकी म्यूच्यूअल फण्ड सलाहकार से मिलकर ही किसी योजना में निवेश करें। क्योकि जो आपके मन में सवाल है वह आप फेस तो फेस पूछ सकते है। जिस से आपको संतुष्टि होगी।

म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने की योग्यता क्या है?

Mutual Fund में निवेश करने की निम्न योग्यता है।

  • Mutual Fund में भारतीय निवासी और NRI कोई भी व्यक्ति निवेश कर सकता है।
  • कम से कम 500 रुपये या इससे ऊपर निवेश योजना बना सकते है।
  • आप अपने लाइफ पार्टनर या बच्चो के नाम से भी निवेश कर सकते है।
  • नाबालिक होने की स्थिति में आपको अपनी पूर्ण जानकारी देनी पड़ेगी। आप तब तक मैनेज करेंगे जब तक बच्चा 18 वर्ष का ना हो जाये।
  • म्यूच्यूअल फण्ड में पार्टनरशिप कंपनियां, ट्रस्ट, LLP और प्राइवेट कंपनियां भी निवेश कर सकती है।

यह भी पढ़ें:

Demat Account क्या होता है? डीमैट अकाउंट कैसे खोलें?

Share Market क्या है? शेयर बाजार में इन्वेस्ट कैसे करें?

Groww App क्या है? क्या ग्रोव एप्प सेफ है? पूरी जानकारी।

SIP क्या होता है? एसआईपी में इन्वेस्टमेंट कैसे शुरू करें? पूरी जानकारी।

Mutual Fund के फायदे क्या है?

म्यूच्यूअल फण्ड के मुख्य फायदे निम्न प्रकार से है।

व्यवसायिक प्रबंधन (Professional Management)

म्युचुअल फंड में व्यवसायिक प्रबंधन बहुत अच्छा है। Professional Management द्वारा निवेशकों के पैसे को बाजार में निवेश करने से पहले, वे बाजार की स्थिति की अच्छी तरह से जांच करने के बाद ही निवेश करते हैं। ताकि यह भविष्य में अपने निवेशकों को अच्छा मुनाफा दे सके।

कई प्रकार (Type of Variety)

म्यूच्यूअल फण्ड का दूसरा सबसे बड़ा बेनिफिट यह है की यहाँ आपके जरुरत के हिसाब से अलग-अलग स्कीम मिल जाती है। जहा आप निवेश करके अच्छा मुनाफा कमा सकते है।

यदि आप किसी विशेष क्षेत्र में निवेश करना चाहते है तो अपनी जरुरत के अनुसार किसी कंपनी का चयन करके इन्वेस्ट कर सकते है।

विविधता (Diversification)

म्यूच्यूअल फण्ड का तीसरा सबसे बड़ा फायदा यह है की यहाँ आप एक जगह पैसा इन्वेस्ट ना करके आप अपने हिसाब से पैसे को अलग-अलग जगह इन्वेस्ट कर सकते है। और सभी स्कीम्स का फायदा उठा सकते है।

सुविधा (Convenience)

म्यूचुअल फंड का चौथा सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप इसमें अपनी पसंद के हिसाब से निवेश कर सकते हैं। अपने हिसाब से पैसे निकाल सकते हैं,और ऑनलाइन और ऑफलाइन खरीद या बेच सकते हैं।

टैक्स लाभ (Tax Benefit)

म्यूचुअल फंड में निवेश का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यहां टैक्स में छूट मिलती है. टैक्स बेनिफिट्स के कारण ज्यादातर लोग म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं।

सस्ती (Affordable)

म्यूच्यूअल फण्ड में आप कम से कम में निवेश शुरू कर सकते है। अपने हिसाब से किसी भी शेयर को खरीद या बेच सकते है।

म्यूच्यूअल फण्ड के नुकसान क्या है?

जिस तरह से म्यूच्यूअल फण्ड के अपने फायदे होते है उसी तरह से कुछ नुकसान भी है। जो निम्न प्रकार से है।

  • रिटर्न की कोई गारंटी नहीं होती है।
  • कभी कभी खर्चे की दर बढ़ जाती है। इसलिए किसी भी म्यूच्यूअल फण्ड योजना में निवेश से पहले खर्चे की दर को जान लेना चाहिए।
  • कुछ म्यूच्यूअल फण्ड प्लान में लॉक इन अवधि होती है। इसका मतलब है की एक बार योजना खरीदने के बाद उसे बेच नहीं सकते है जब तक अवधि पूरी नहीं हो जाती है।

FAQ: Mutual Fund SIP

क्या म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश सुरक्षित सही है?

म्यूच्यूअल फण्ड बाजार से जुड़े निवेश है। इसलिए ऐसे पूरी तरह सुरक्षित नहीं कहा जा सकता है। जोखिम को कम करने के लिए कई तरह के रूल्स और रेगुलेशन लागु है। इसका पैसे किसी एक विशेष क्षेत्र में निवेश ना करके कई क्षेत्रो में निवेश किया जाता है। जिससे जोखिम का खतरा अन्य क्षेत्रो के मुकाबले काम होता है।

म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने का सही समय क्या होता है?

सही समय का इंतज़ार करने से बेहतर है बाजार में निवेश करना। क्योकि बाजार कभी भी स्थिर नहीं रहता है। बाजार में उतरा चढाव हमेशा बना रहता है। इसलिए ऐसे लेकर कोई भविष्यवाणी करना सरासर मूर्खता है। समय का इन्तिज़ार करने की वजय यह सोचे की आप कितना जोखिम ले सकते है। और आपका लक्ष्य क्या है? और सही सलाहकार से मिलकर निवेश करें।

क्या आप किसी म्यूच्यूअल फण्ड में अपना सारा पैसा खो सकते है?

म्यूच्यूअल फण्ड बाजार से जुड़े होने के कारण, इसमें हमेशा जोखिम बना रहता है। इसलिए हो सकता है आपकी निवेश की गयी मूल राशि का नुकसान हो सकता है। हालाँकि अभी तक जो देखा गया है उसके आधार पर कह सकते है की नुकसान की सम्भावना थोड़ी कम है।

Mutual Fund रिटर्न की गणना कैसे करते है?

म्यूच्यूअल फण्ड स्कीम की गणना करने के लिए फार्मूला है (कुल लाभ / मूल निवेश) X 100 .

म्यूच्यूअल फण्ड करने के लिए कितनी राशि चाहिए?

आप न्यूनतम राशि 500 रुपये या इससे ऊपर की राशि के साथ किसी भी म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश की योजना बना सकते है।

Mutual Fund में डायरेक्ट और रेगुलर प्लान क्या है?

डिस्ट्रीब्यूटर कमीशन रेगुलर प्लान में शामिल होता है। यानी आप इस योजना में जितनी भी राशि निवेश करते हैं, उस पर कमीशन 0.5% से लेकर 1% तक होता है। हर साल आपकी निवेशित राशि का 0.5% से 1% कमीशन वितरक को देना होता है। जबकि डायरेक्ट प्लान में कमीशन की राशि शामिल नहीं है।

यह भी पढ़ें:

NSE और BSE में अंतर क्या है? पूरी जानकारी।

BSE क्या है? बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की पूरी जानकारी।

NSE क्या है? नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की पूरी जानकारी

IPO क्या है? आईपीओ में इन्वेस्ट कैसे करें? पूरी जानकारी।

निष्कर्ष: म्यूच्यूअल फण्ड क्या होता है?

दोस्तों, उम्मीद है की मैंने आपको Mutual Fund क्या है? म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश क्यों करें? के बारे में पूरी जानकारी दी है। और उम्मीद करता हु की म्यूच्यूअल फण्ड के लाभ और नुकसान क्या है? आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा।

आपको कैसी लगी हमारी पोस्ट Mutual Fund क्या है? म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश क्यों करें? हमें कमेंट बॉक्स में Comment करके जरूर बताये। इसके अलावा आपके मन में कोई सवाल है तो आप comment box में पूछ सकते है। मै पूरी कोशिश करूँगा आपके सवालो का जवाब देने की।

Sonu Singh

Hello friends, I am Sonu Singh, Author & Co-Founder of wekens. Talking about education, I am a graduate. I love to learn and learn about technical news, top story, history. I request you that you keep supporting us in this way and we will continue to provide new information for you. #wekens Team, Digital India, Jai Hind

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.