NEFT क्या है? NEFT और RTGS में क्या अंतर है? पूरी जानकारी।

दोस्तों अगर आप Internet Banking का इस्तेमाल करते हैं तो आपने अपने NEFT का नाम तो सुना ही होगा। और साथ ही किसी को एनईएफटी के माध्यम से भुगतान किया होगा। लेकिन क्या आप जानते है, NEFT क्या है? और नेफ्ट कैसे काम करता है? और इसके फायदे और नुकसान क्या हैं? अगर नहीं जानते है तो यह लेख आपके लिए महतवपूर्ण होने वाला है।  

वैसे, आजकल e-Payment करने के लिए कई विकल्प उपलब्ध हैं जैसे UPI, AePS, EFT, आदि। लेकिन कुछ लोग अभी भी NEFT, RTGS और IMPS भुगतान जैसी प्रणाली पर अधिक भरोसा करते हैं। इस लेख में हम एनईएफटी से जुडी जानकरी आपको बताने वाले है। चलिए जानते है नेफ्ट क्या होता है। और एनईएफटी कैसे करें?

NEFT का Full Form क्या है?

NEFT का पूरा नाम (Full Form) “National Electronic Fund Transfer” है। इसका मतलब हिंदी में “राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर” है? यह एक फंड ट्रांसफर सिस्टम है। इसकी शुरुआत वर्ष 2005 में हुई थी। यह भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा संचालित है।

NEFT क्या है?

NEFT (नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रान्सफर) एक इलेक्ट्रॉनिक भुगतान (e-Payment ) प्रणाली है जो एक बैंक अकाउंट से दुसरे बैंक अकाउंट में सुरक्षित तरीके से पैसे ट्रान्सफर और प्राप्त करने की प्रक्रिया है। नेफ्ट भुगतान प्रक्रिया बैच वाइज फॉर्मेट में किया जाता है।

किसी भी व्यक्ति या फर्म को एनईएफटी करने के लिए आपको भुगतान प्राप्त करने वाले का बैंक डिटेल चाहिए होता है। जैसे- अकाउंट होल्डर का नाम, बैंक अकाउंट नंबर, IFSC Code, बैंक नाम, और बैंक ब्रांच।

नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सिस्टम (NEFT) को भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) द्वारा संचालित किया जाता है। और लगभग सभी भारतीय बैंक अपने ग्राहकों को एनईएफटी द्वारा भुगतान करने की सुविधा देते हैं।

नेफ्ट के माध्यम से बैंक ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करके घर बैठे किसी भी व्यक्ति को सरल और सुरक्षित तरीके से पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।

NEFT कैसे काम करता है?

NEFT के माध्यम से भुगतान करने के लिए, आपके पास लाभार्थी की बैंक जानकारी के साथ एक एनईएफटी फॉर्म भरना होता है। जिसमे बैंक होल्डर का नाम, बैंक अकाउंट नंबर, IFSC कोड, बैंक नाम, बैंक ब्रांच एड्रेस और जितना पैसा आप ट्रान्सफर करना चाहते है। नेफ्ट द्वारा भुगतान करते समय यह जानकारी Internet बैंकिंग और ऑफलाइन बैंकिंग दोनों में ही देने होते है।

इन्टरनेट बैंकिंग में नेफ्ट कैसे काम करता है निम्नलिखित चरणों से समझेंगे:-

थर्ड पार्टी लेनदेन एक्टिवेशन (Third Party Transaction Activation)

इन्टरनेट बैंकिंग में NEFT द्वारा Transaction करने से पहले आपको थर्ड पार्टी Transaction एक्टिवेट करना जरुरी है। इसके बाद ही आप नेफ्ट कर पाएंगे।

लाभार्थी का नाम जोड़ें (Add the beneficiary name)

जिस व्यक्ति को NEFT करना है उसका नाम Beneficiary तौर पर जोड़ना जरूरी है। बेनिफिसिअरी को जोड़ते समय आपको लाभार्थी का नाम, बैंक खाता संख्या, IFSC कोड, बैंक का नाम, बैंक शाखा का पता दर्ज करना होगा।

बैंक प्रोसेसिंग (Bank Processing)

इन्टरनेट बैंकिंग में बेनिफिसिअरी का नाम जोड़ने के बाद बैंक को Beneficiary की डिटेल को सत्यापित करने में 4 से 6 घंटे का समय लेते है। कुछ बैंक जल्दी भी सत्यापित कर देते हैं। Beneficiary जुड़ने के बाद आप उसके बैंक खाते में पैसे ट्रान्सफर कर सकते है।

नेफ्ट प्रक्रिया (NEFT Process )

पैसे भेजने के लिए Transfer by NEFT या RTGS विकल्प पर जाएँ। इसके बाद बेनिफिसिअरी का नाम, भुगतान राशी, ट्रान्सफर का विवरण दर्ज करें। अब Transaction PIN डालें। अब आपके द्वारा रजिस्टर मोबाइल नंबर पर OTP आएगा उसे वेरीफाई करें। वेरीफाई करने के बाद आपका नेफ्ट हो जायेगा। NEFT ट्रान्सफर बैच वाइज फॉर्मेट पर कार्य करता है इसलिए लाभार्थी के पास पैसा पहुचने में थोडा वक्त लग सकता है।

NEFT करने का समय क्या है?

NEFT द्वारा पैसे ट्रान्सफर करने का समय निम्न प्रकार से है।

बैंक कार्यकाल NEFT और RTGS समय
सोमवार से शुक्रवार08:00AM से 07:00PM
शनिवार08:00AM से 01:00PM
NEFT Timing

Note:- 2nd और 4th शनिवार, रविवार, पब्लिक हॉलिडे, बैंक हॉलिडे में NEFT और RTGS Transaction को Processes नहीं किया जाता है।  

NEFT में कितना टाइम लगता है?

नेफ्ट के माध्यम से आप किसी भी बैंक अकाउंट में पैसे ट्रान्सफर कर सकते है। NEFT के द्वारा किया जाने वाला ट्रान्सफर बैच वाइज फॉर्मेट में होता है। क्योकि यह रियल टाइम फण्ड ट्रान्सफर नहीं है इसलिए आपके द्वारा किया गये नेफ्ट ट्रान्सफर में लगभग आधे घंटे से 1 घंटे का समय लग सकता है।

NEFT Transaction Charges या Fees कितना है?

NEFT Transaction Charges सभी बैंकों के अलग-अलग हो सकते है। ध्यान देने वाली बात यह है की पैसे प्राप्त करने वाली बैंक कोई भी फीस या चार्जेज नहीं लेती है। लेकिन पैसे भेजने वाली बैंक आपसे NEFT charges या Fees लेती है। जो निम्न प्रकार से हो सकते है।

Transaction AmountNEFT Charges या Fees
Rs. 10,000 तकRs. 2.50 + Applicable GST
Rs. 10,001 से 1,00,000 लाख तकRs. 5.00 + Applicable GST
Rs. 1,00,001 से 2,00,000 लाख तकRs. 15.00 + Applicable GST
Rs. 2,00,001 से 5,00,000 लाख तकRs. 25.00 + Applicable GST
Rs. 5,00,001 से 10,00,000 लाख तकRs. 25.00 + Applicable GST
NEFT Transfer Charges by Bank

Note:- NEFT charges समय के अनुसार बैंकों द्वारा बदलते रहते है। इसलिए नेफ्ट करने से पहले अपने अधिकृत बैंक से संपर्क जरुर करें।

NEFT और RTGS में क्या अंतर है?

NEFT और RTGS में मुख्य अंतर निम्न प्रकार से है।

  • नेफ्ट द्वारा भुगतान करने में थोडा समय लगता है क्योकि यहाँ बैच वाइज फोर्मेट के हिसाब से भुगतान प्रक्रिया होती है। जबकि RTGS के माध्यम रियल टाइम में पैसा ट्रान्सफर होता है।
  • नेफ्ट के द्वारा फण्ड ट्रान्सफर ज्यादातर छोटे खाता धारक करते है और जबकि RTGS का ज्यादातर उपयोग बड़े खाता धारक करते है।
  • NEFT का इस्तेमाल छोटी राशी को ट्रान्सफर करने के लिए किया जाता है जबकि RTGS का उपयोग बड़ी राशी ट्रान्सफर करने के लिए किया जाता है।
  • नेफ्ट के द्वारा फण्ड ट्रान्सफर करने का समय सोमवार और शुक्रवा सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक रहता है और शनिवार को 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक रहता है। जबकि RTGS का भी यही समय होता है लेकिन इसमे पैसे रियल टाइम में ट्रान्सफर हो जाते है। (NEFT और RTGS बैंकिंग कार्य के दौरान ही होते है।)  

एनईएफटी कैसे करें?

दो तरीको से आप एनईएफटी (NEFT) के द्वारा फण्ड ट्रान्सफर कर सकते है पहला Online NEFT और दूर Offline NEFT. आपको यहाँ दोनों तरीके बता रहें है। आपके लिए जो बेहतर हो उसे फॉलो करें।

Online NEFT कैसे करें?

  • सबसे पहले Net Banking खाते में अपने USER ID और Password के द्वारा लॉग इन करें।
  • इसके बाद जिस व्यक्ति को एनईएफटी करना है उसका नाम बेनिफिसिअरी तौर पर जोड़ें। इसके लिए  बेनिफिसिअर का नाम, बैंक खाता संख्या, IFSC कोड, बैंक का नाम, बैंक शाखा का पता दर्ज करें।
  • बिनिफिसिअर नाम ऐड होने के बाद Transfer by NEFT विकल्प को चुने।
  • इसके बाद पैसे भेजने के लिए Transfer by NEFT या RTGS विकल्प पर जाएँ।
  • इसके बाद बेनिफिसिअरी का नाम, भुगतान राशी, ट्रान्सफर का विवरण दर्ज करें।
  • अब Transaction PIN डालें।
  • अब आपके द्वारा रजिस्टर मोबाइल नंबर पर OTP आएगा उसे वेरीफाई करें। वेरीफाई करने के बाद आपका एनईएफटी हो जायेगा।
  • नेफ्ट ट्रान्सफर बैच वाइज फॉर्मेट पर कार्य करता है। इसलिए लाभार्थी के पास पैसा पहुचने में थोडा वक्त लग सकता है।
  • कुछ ही देर में आपका पैसा लाभार्थी के खाते में ट्रान्सफर हो जायेगा।

Offline NEFT कैसे करें?

  • सबसे पहले अपने बैंक में जाएँ।
  • आपको वहां से NEFT/RTGS फॉर्म मिलेगा। जिसमे आपको Beneficiary Name, Bank Account Number, Bank Name, Branch, IFSC Code, Type of Account, और Transfer Amount भरना है।
  • सभी जानकारी अच्छे से भरने के बाद बैंक अधिकारी को फॉर्म सबमिट करें।
  • नेफ्ट फॉर्म सबमिट करने के बाद बैंक अधिकारी आपके फॉर्म को Authorize करके आपके पैसे को ट्रान्सफर कर देगा।

NEFT के फायदें।

नेफ्ट के मुख्य फायदे इस प्रकार से है।

  • NEFT के द्वारा आप किसी व्यक्ति, फर्म, कंपनी, आदि को आसान और सुरक्षित तरीके से पैसे भेज सकते है।
  • लाभार्थी को आसानी से पैसे मिल जाते है उसे बैंक जाने की आवश्यकता नहीं होती है।
  • छोटी राशी के भुगतान के लिए एक बेहतर विकल्प है।
  • एनईएफटी के चार्जेज अन्य भुगतान प्रणाली के हिसाब से बहुत कम होते है।
  • इन्टरनेट बैंकिंग के द्वारा फण्ड को सुरक्षित तरीके से ट्रान्सफर कर सकते है।
  • पैसे प्राप्त करने वाले को किसी भी तरह कोई चार्ज देना नहीं होता है।
  • किसी कारण वश आपका Transaction पूरा नहीं होता है और आपके खाते से पैसे कट जाते है, तो घबराने की जरुरत नहीं वह पैसे आपके खाते में पुनः वापस आ जायेंगे।
  • एनईएफटी द्वारा किया गया ट्रान्सफर RBI की देख रेख में होता है। इसलिए आपको घबराने की बिलकुल भी जरुरत नहीं है। आपका पैसे एक दम सुरक्षित रहता है।
Video Credit: Suresh Kumar Sharma

इन्हें भी पढ़ें:

FAQ for NEFT in Hindi

नेफ्ट क्या होता है?

नेफ्ट का पूरा नाम नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रांसफर है जो एक इंटरनेट भुगतान प्रणाली है। इसके द्वारा एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में पैसे भेजे या प्राप्त किये जाते हैं।

क्या सभी बैंक NEFT Facility देती है?

सभी बैंक्स नेफ्ट की सुविधा नहीं देती है जिन बैंकों के पास नेफ्ट करने की सुविधा है। आप उन सभी बैंकों की सूचि रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) की अधिकृत वेबसाइट पर देख सकते है।

क्या IFSC Code के बिना नेफ्ट कर सकते है?

नहीं, सभी NEFT Transaction के लिए IFSC Code जरुरी है। बिना IFSC Code हम नेफ्ट द्वारा किसी भी बैंक खाते में पैसे ट्रांसफर नहीं कर सकते है।

निष्कर्ष : नेफ्ट कैसे करें?

दोस्तों, उम्मीद है की मैंने आपको NEFT क्या है? NEFT और RTGS में क्या अंतर है? के बारे में पूरी जानकारी दी है। और उम्मीद करता हु की नेफ्ट कैसे करें और नेफ्ट के फायदे आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा।

आपको कैसी लगी हमारी पोस्ट नेफ्ट क्या है? एनईएफटी और आरटीजीएस में क्या अंतर है? पूरी जानकारी. हमें कमेंट बॉक्स में Comment करके जरूर बताये। इसके अलावा आपके मन में कोई सवाल है तो आप comment box में पूछ सकते है। मै पूरी कोशिश करूँगा आपके सवालो का जवाब देने की।

Sonu Singh

Hello friends, I am Sonu Singh, Author & Co-Founder of wekens. Talking about education, I am a graduate. I love to learn and learn about technical news, top story, history. I request you that you keep supporting us in this way and we will continue to provide new information for you. #wekens Team, Digital India, Jai Hind

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.