RTGS क्या होता है और आरटीजीएस कैसे करें? पूरी जानकारी।

RTGS Kya Hota Hai: अगर आप इन्टरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते है, तो अपने भी RTGS का नाम अवश्य सुना होगा। और साथ ही RTGS भुगतान प्रणाली का इस्तेमाल करके किसी को Fund Transfer किया होगा। लेकिन क्या आप जानते है RTGS क्या होता? RTGS का मतलब क्या होता है? और आरटीजीएस कैसे काम करता है? अगर आप नहीं जानते है तो यह लेख आपके लिए आवश्यक होने वाला है।

आजकल e-Payment करने के लिए ऑनलाइन कई विकल्प मौजूद हैं, जिसमे सबसे ज्यादा  पोपुलर UPI, IMPS, NEFT, RTGS AePS, EFT, आदि है। लेकिन कुछ लोग आज भी सबसे ज्यादा NEFT, RTGS और IMPS  के द्वारा भुगतान करना ज्यादा पसंद करते हैं। इस लेख में हम RTGS से जुडी सभी जानकरी देने वालें है। चलिए जानते है Online और Offline RTGS कैसे करें?

RTGS kya hota hai- RTGS full form hindi

क्या है RTGS का Full Form?

RTGS का पूरा नाम (Full Form) “Real Time Gross Settelment” है। जिसका हिंदी अर्थ “वास्तविक समय सकल निपटान” है। जिसक द्वारा वास्तविक समय में एक बैंक खाते से दुसरे बैंक खाते में राशी ट्रान्सफर की जाती है।

RTGS क्या होता है? (What is RTGS )

RTGS ऑनलाइन भुगतान करने सबसे तेज और सुरक्षित तरीका है। जिसके द्वारा वास्तविक समय (Real-Time) में एक बैंक खाते से दुसरे बैंक खाते में आसानी से भुगतान किया जाता है। RTGS द्वारा भुगतान करने की न्यूनतम राशी 2 लाख रुपये और अधिकतम राशी की कोई सीमा नहीं है। 2 लाख से कम राशी के भुगतान के लिए NEFT भुगतान सिस्टम का इस्तेमाल कर सकते है।

आज कल लगभग सभी बैंक अपने ग्राहकों को RTGS ऑनलाइन भुगतान करने की सुविधा प्रदान करती है। लेकिन कुछ बैंकों की शाखाओं में यह सुविधा अभी भी उपलब्ध नहीं है। भारत में लगभग 1 लाख बैंक शाखाएं RTGS की सेवा अपने ग्राहकों को प्रदान कर रही है।

अगर आप जानना चाहते है की RTGS की सेवा भारत में कौनसी बैंक अपने ग्राहकों प्रदान कर रही है तो इसके लिए आप RBI की अधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करके जान सकते है।

RTGS कैसे काम करता है? (How does RTGS work?)

RTGS द्वारा किसी लाभार्थी को भुगतान करने के लिए,  लाभार्थी का बैंक विवरण के साथ एक RTGS form भरना होता है। जैसे- बैंक होल्डर का नाम, बैंक खाता संख्या, IFSC कोड, बैंक का नाम, बैंक ब्रांच एड्रेस और भुगतान राशी। चाहे आप इंटरनेट बैंकिंग या ऑफलाइन बैंकिंग का उपयोग करें, आरटीजीएस के माध्यम से भुगतान करने के लिए लाभार्थी के बैंक विवरण आवश्यकता होती है।

निम्नलिखित चरणों के साथ समझें कि Internet Banking में RTGS कैसे काम करता है

थर्ड पार्टी लेनदेन एक्टिवेशन (Third Party Transaction Activation)

इन्टरनेट बैंकिंग में RTGS द्वारा भुगतान करने के लिए थर्ड पार्टी Transaction Activate करना आवश्यक होता है। बिना थर्ड पार्टी एक्टिवेशन आप आरटीजीएस द्वारा भुगतान नहीं कर सकते है। थर्ड पार्टी एक्टिवेशन में आपको लगभग 12 घंटे का समय लगता है और कुछ बैंक इसे 4 से 5 घंटे में ही एक्टिवेट कर देती है।

लाभार्थी का नाम जोड़ें (Add the beneficiary name)

किसी भी लाभार्थी को RTGS करने के लिए, उसका नाम Beneficiary तौर पर Add करना होता है। बेनेफिसिअरी का नाम जोड़ने के लिए आपको Benificiary Name, Bank Name, Bank Account Number, IFSC Code, Branch Address दर्ज करें।

बैंक प्रोसेसिंग (Bank Processing)

Internet Banking में Benificiary का नाम जोड़ने के बाद बैंक को लाभार्थी की डिटेल्स सत्यापित करने में लगभग 4-6 घंटे का समय लगता है। Beneficiary नाम बैंक द्वारा सत्यापित होने के बाद लाभार्थी के खाते में RTGS द्वारा पैसे ट्रान्सफर कर सकते है।

RTGS प्रक्रिया (RTGS Process )

RTGS द्वारा फण्ड ट्रान्सफर करने के लिए निम्न स्टेप्स फॉलो करें।

  • सबसे पहले Transfer by RTGS ऑप्शन पर जाएँ।
  • अब Beneficiary का नाम, भुगतान राशी, और ट्रांजीशन विवरण दर्ज करें।
  • इसके बाद Transaction PIN डालें।
  • अपब आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर OTP आएगा उसे Verify करें।
  • OTP वेरीफाई करने के बाद आपका आरटीजीएस हो जायेगा।
  • कुछ ही समय में लाभार्थी को आपके द्वारा भेजी गयी राशी प्राप्त हो जाएगी।  

RTGS Transaction की विशेषताएं?

RTGS Transaction की मुख्या विशेश्त्यें निम्न प्रकार से है।

  • वास्तविक समय में फण्ड ट्रान्सफर।
  • आरटीजीएस द्वारा बड़ी राशी ट्रान्सफर करना बहुत आसान।
  • RTGS द्वारा फण्ड ट्रान्सफर करना बहुत आसान और सुरक्षित है क्योकि यह RBI के निगरानी में किया जाता है।
  • इसमें फण्ड को एक-एक करके credit किया जाता है।
  • लाभार्थी को फण्ड तुरंत प्राप्त होता है।

RTGS कैसे करें? (How to do RTGS?)

RTGS द्वारा फण्ड ट्रान्सफर दो तरीको से किये जाते है। पहला Internet Banking द्वारा और दूसरा ऑफलाइन बैंकिंग। यहाँ हम आपको आरटीजीएस करने के दोनों तरीको के बारे में बताएँगे। आपकी सुविधानुसार फॉलो करें।     

Online RTGS कैसे करें?

  • सबसे पहले Online Banking खाते में USER ID और Password डालकर लॉग इन करें।
  • अब जिस लाभार्थी को RTGS करना है, उसका नाम Benificiary में जोड़ें। जिसके लिए Bank Holder Name, Bank Account Number, IFSC Code, Bank Name, Bank Branch दर्ज करें।
  • Benificiary का जुड़ने के बाद Transfer by RTGS ऑप्शन पर जाएँ।
  • अब फण्ड ट्रान्सफर करने के लिए Transfer by RTGS को चुनें।
  • इसके बाद Benificiar का नाम, Transfer Amount, ट्रान्सफर का विवरण डालें करें।
  • अब Transaction PIN डालें।
  • PIN डालने के बाद आपके रजिस्टर मोबाइल नंबर पर OTP आएगा। जिसे डालकर वेरीफाई करें। Verify करते ही आरटीजीएस हो जायेगा।
  • कुछ ही समय में फण्ड लाभार्थी के बैंक खाते में प्राप्त हो जायेगा।

Offline RTGS कैसे करें?

  • अपने बैंक ब्रांच में जाएँ।
  • बैंक से NEFT/RTGS फॉर्म मिलेगा। जिसमे Beneficiary Name, Bank Account Number, Bank Name, Branch, IFSC Code, Type of Account, और Transfer Amount  भरें।
  • लाभार्थी का बैंक विवरण भरने के भरने के बाद, बैंक अधिकारी को RTGS फॉर्म सबमिट करें।
  • आरटीजीएस फॉर्म सबमिट करने के बाद, बैंक अधिकारी आपके फॉर्म को सत्यापित करके आपके फण्ड को लाभार्थी के बैंक खाते में ट्रान्सफर कर देगा।

RTGS करने के Charges या Fees।

RTGS Transaction Charges या Fees लगभग सभी बैंकों में अलग-अलग होता है। आपको बता दू की जो बैंक फण्ड प्राप्त करती है वो कभी charges नहीं लेती है। लेकिन फण्ड भेजने वाली बैंक आपसे RTGS Charges लेती है। जो निम्न प्रकार से हो सकते है।

RTGS Transaction AmountRTGS Charges या Fees
Rs. 2,00,001 से 5,00,000 लाख तकRs. 25.00 + Applicable GST
Rs. 5,00,001 से ऊपरRs. 50.00 + Applicable GST
RTGS Transaction Charges list

RTGS करने का समय (RTGS Timing)

RTGS द्वारा फण्ड ट्रान्सफर केवल बैंक कार्यकाल में ही कर सकते है। और बैंक कार्यकाल में आरटीजीएस से भुगतान करने का समय निम्न प्रकार से है।

बैंक कार्यकालRTGS और NEFT का समय
सोमवार से शुक्रवार09:00AM से 04:30PM
शनिवार09:00AM से 02:00PM
RTGS Transaction Time

नोट:- Note:- 2nd और 4th शनिवार, रविवार, पब्लिक हॉलिडे, बैंक हॉलिडे में RTGS और NEFT Transaction को बैंक द्वारा Processes नहीं किया जाता है।  

RTGS और NEFT में क्या अंतर है? (Difference of RTGS & NEFT)

RTGS और NEFT, दोनों ही एक भुगतान प्रणाली है। लेकिन दोनों के बीच कुछ अंतर (Difference) पायें जातें है, जो निम्न प्रकार से है।

  • RTGS Transaction वास्तविक समय में किया जाता है। जबकि NEFT Transaction Batch फॉर्मेट में किया जाता है।
  • NEFT करने के लिए न्यूनतम राशि 1 रुपये और अधिकतम राशि 2 लाख रुपये है। जबकि RTGS करने के लिए न्यूनतम राशि 2 लाख रुपये है, और अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं है।
  • एनईएफटी ट्रांजेक्शन को घंटे के आधार पर सेटलमेंट किया गया है। जबकि आरटीजीएस को रीयल-टाइम में सेटलमेंट किया गया।
  • NEFT का इस्तेमाल ज्यादातर छोटे व्यापारियों या कम राशी का भुगतान करने के लिए किया जाता है। जबकि RTGS का इस्तेमाल ज्यादातर बड़े व्यापारियों या बड़ी राशी के भुगतान के लिए किया जाता है।
  • RTGS द्वारा भुगतान प्राप्त करने में समय कम लगता है। जबकि NEFT द्वारा भुगतान प्राप्त करने में लगभग 1 घंटे का समय लग जाता है।

NEFT, RTGS और IMPS के बारे में समझाने के लिए आप YouTube Channel- Asset Yogi का विडियो भी देख सकते है।

Video: Hamsafar Tech

Video Credit: Asset Yogi

इन्हें भी पढ़ें:

FAQ for RTGS का मतलब क्या है?

RTGS करने की लिमिट क्या है?

RTGS के माध्यम से भुगतान करने के लिए न्यूनतम राशी 2 लाख रुपये और अधिकतम राशी की कोई सीमा नहीं है।

क्या हम आरटीजीएस के माध्यम से विदेश में पैसे भेज सकते है?

नहीं, यह सुविधा केवल भारत में ही उपलब्ध है। और वो भी सिर्फ RTGS Enable Service बैंकों में ही कर सकते है।

कैसे जाने हमारा बांको RTGS Enable बैंक है।

यह जानने के लिए आप RBI की अधिकारिक वेबसाइट  पर Visit करें। वहां पर आपको RTGS Enable सभी बैंकों की सूचि आपको मिल जाएँगी।

क्या आरटीजीएस के माध्यम से फण्ड ट्रान्सफर रविवार के दिन किया जा सकता है।

नहीं, आरटीजीएस के माध्यम से फण्ड ट्रान्सफर केवल बैंकिंग कार्यकाल के दौरान ही कर सकते है।

क्या आरटीजीएस के माध्यम से फण्ड प्राप्त करने वाले लाभार्थी को Charges देने होते है?

नहीं, आरटीजीएस के माध्यम से फण्ड प्राप्त करने वाले लाभार्थी को किसी तरह का Charges या Fees नहीं देने होते है। केवल RTGS Fund ट्रान्सफर करने वाले व्यक्ति को Charges या Fees देने होते है।

निष्कर्ष : नेफ्ट कैसे करें?

दोस्तों, उम्मीद है की मैंने आपको RTGS क्या है? RTGS और NEFT में क्या अंतर है? के बारे में पूरी जानकारी दी है। और उम्मीद करता हु की आरटीजीएस कैसे करें?आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा।

आपको कैसी लगी हमारी पोस्ट RTGS क्या होता है और आरटीजीएस कैसे करें? पूरी जानकारी। हमें कमेंट बॉक्स में Comment करके जरूर बताये। इसके अलावा आपके मन में कोई सवाल है तो आप comment box में पूछ सकते है। मै पूरी कोशिश करूँगा आपके सवालो का जवाब देने की।

नमस्ते! मेरा नाम सोनू सिंह है और इस Best Hindi Blog पर अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से Blogging, Earn Money, बैंकिंग, इंटरनेट, टेक्नोलॉजी आदि से संबंधित उपयोगी और मददगार जानकारी शेयर करता हूं। साथ ही मैं WeKens.com का Founder भी हूं। हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद!

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.