SIP क्या होता है? एसआईपी में इन्वेस्टमेंट कैसे शुरू करें? पूरी जानकारी।

SIP Kya Hota Hai: दोस्तों क्या आप जानते हैं “SIP क्या है?” एसआईपी में निवेश कैसे शुरू करें? आपको बता दें कि एसआईपी कम पैसे में निवेश करने का एक अच्छा तरीका है। इस लेख में हम जानेंगे कि सिप में कितना रिटर्न मिलता है? साथ ही हम जानेंगे कि “SIP के क्या फायदे और रिस्क हैं?”

अगर आप एसआईपी से जुड़े सवालों के जवाब चाहते हैं तो यह ब्लॉग आपके लिए काफी अहम होने वाला है।

SIP kya hai- SIP Me Nivesh Kaise Shuru kare

SIP का फुल फॉर्म क्या है? (Full of SIP in Hindi)

सिप (SIP ) का पूरा नाम (Full Form) “Systematic Investment Plan” है। जिसका हिंदी में “व्यवस्थित निवेश योजना” है। इसमें आप थोड़ी रिस्क के साथ कम पैसो में मासिक, त्रैमासिक, अर्ध वार्षिक, और वार्षिक निवेश कर सकते है।

SIP (Systematic Investment Plan) क्या है?

SIP (Systematic Investment Plan) एक प्री-डिफाइंड निवेश प्लान है जिसमे म्यूचुअल फंड में एक नियमित अंतराल में निश्चित पैसो का निवेश करते है। यह कम पैसो में म्यूचुअल फंड के साथ इन्वेस्टमेंट करने का सबसे बेहतरीन तरीका माना जाता है। इसमें निवेश करने वाला व्यक्ति अपनी सुविधानुसार SIP चुन सकता है।

जब हमसे कोई इन्वेस्टमेंट की बात करता है तो हमारे मन में कई तरह के सवाल आते है। लेकिन एसआईपी में निवेश करने के लिए आपको ज्यादा सोचने की जरुरत नहीं होती है। क्योकि इसमें निवेश शुरुवात 500, 1000, 2000 से लेकर 3000 रुपये तक या इससे अधिक पैसो के साथ कर सकते है।

लेकिन मै आपको यहाँ बताना चाहूंगा की जब आप म्यूचुअल फंड में SIP के साथ निवेश करने की योजना बना रहे है। तभी आप उस योजना से जुडी सभी शर्तों को एक बार अवश्य जान लें। क्योकि बाजार में बहुत सी कंपनियां है और सभी का प्लान अलग होता है।

सिप में कितना रिटर्न मिलता है? (What is the return in SIP in Hindi)

यदि आप एसआईपी में फिक्स रिटर्न के लिए निवेश कर रहे तो आपका ऐसा सोचना गलत है। क्योकि Mutual Fund SIP में रिटर्न फिक्स नहीं होता है। यह पूरी तरह से बाजार की स्थिति पर निर्भर करता है।

Equity Fund Mutual Funds का 10 वर्षो का लगभग वार्षिक रिटर्न 12 % से 14% तक रहा है। इक्विटी म्यूच्यूअल फण्ड खास तौर पर कंपनी स्टॉक्स/ कंपनी शेयर्स में निवेश करती है।

Debt Mutual Fund का लगभग वार्षिक रिटर्न 8% से 9% रहता है। डेब्ट म्यूच्यूअल फण्ड में पैसो को मुख्य रूप से बांड्स और कॉर्पोरेट फिक्स डिपाजिट में इन्वेस्ट किया जाता है।

एसआईपी में निवेश कैसे शुरू करें? (How to start investing in SIP in Hindi)

एसआईपी में निवेश करने के लिए हमें कुछ बातो का ध्यान रखना होता है। यह बहुत ही आसान है। चलिए हम कुछ पॉइंट के आधार पर सिप में निवेश करने की योजना को देखते है।

आपका उद्देश्य तय करें।

अक्सर कुछ लोग बिना उद्देश्यों के म्यूच्यूअल फण्ड एसआईपी में निवेश करने की योजना बना लेते है। जो की एक गलत तरीका होता है किसी भी SIP में निवेश करने से पहले अपने उद्देश्यों को जाने। इससे आपको मदद मिलेगी की किस तरह की SIP प्लान को चुना जाये , इन्वेस्टमेंट की अवधि क्या होनी चाहिए, रिटर्न कितना मिलेगा, इसमें जोखिम कितना है।

इन्वेस्टमेंट की अवधि निर्धारित करें।

आपके उद्देश्यों को पूरा करने के लिए इन्वेस्टमेंट की अवधि तय करनी भी जरुरी है। समय निर्धारित करने से लाभ की गणना करने में आसानी होती है और यह बहुत ही जरुरी होता है।

KYC अपडेट करें।

किसी भी Mutual Fund SIP में निवेश करने से पहले अपनी KYC को कम्पलीट कर लेनी चाहिए। इसे आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरीके से कर सकते है। यह प्रक्रिया केवल एक बार ही करना होता है। एक बार KYC की प्रक्रिया पूरी कर लेने के बाद वह किसी भी म्यूच्यूअल फण्ड प्लान में निवेश कर सकता है।

सही म्यूच्यूअल फण्ड सिप प्लान को चुने।

आप अपने उद्देश्यों को ध्यान में रख कर सही एसआईपी प्लान को चुने। ज्यादातर मामलो में देखा गया है की लोग इक्विटी फण्ड की सलाह देते है। लेकिन किसी भी SIP प्लान में इन्वेस्टमेंट करने से पहले पिछले ट्रैक रिकॉर्ड को जरूर समझ लें।

चाहें वो प्लान आपके उद्देश्यों के अनुरूप ही क्यों न हो। आप कंपनी की प्रोफाइल देखने के साथ-साथ कंपनी के मैनेजर की गुड विल के बारे में भी जाँच करें।

हमेशा देखा गया है की म्यूच्यूअल फण्ड एसआईपी वितरकों के माध्यम से निवेश करना हमेशा अच्छा रहा है। क्योकि उनके पास कई तरह की निवेश योजनाए होती है। जो सीधे कंपनी के माध्यम से निवेश करना संभव नहीं है।

इन्वेस्टमेंट राशि और दिनांक निर्धारित करें।

म्यूच्यूअल फण्ड एसआईपी निवेश करने से पहले एक राशि को निर्धारित करना बहुत जरुरी होता है। निवेश की राशि निर्धारित करने से पहले अपने सभी खर्चो का सही आंकलन करें इसके अलावा निर्धारित अंतराल के दौरान होने वाले खर्चो का भी आंकलन करें। इसके लिए आप SIP कैलकुलेटर का इस्तेमाल कर सकते है।

साथ ही यह भी तय करें की किस दिनांक को अपने निवेश की राशि दे पाएंगे। यदि आप ऐसा नहीं करते है और सही समय पर निवेश की राशि नहीं दे पाते है तो आपका नुकसान होगा। जो की आपके लिए सही नहीं होगा। इसलिए निवेश की राशि और दिनांक निर्धारित करें।

निवेश पर मॉनिटरिंग करें।

म्यूच्यूअल फण्ड एसआईपी में निवेश कर के भूल जाना समझदारी नहीं है। आपको अपने इन्वेस्टमेंट पर पूरी नजर रखनी चाहिए और यह जाँच करना चाहिए की जो अपने राशि निवेश की उसका प्राप्त रिटर्न मिल रहा है या नहीं। ऐसा करने से आपको लाभ अधिक होगा।

सिप के फायदे क्या है? (Advantage of SIP)

एसआईपी (SIP) में निवेश करने के फायदे निम्न है।

  • SIP में निवेश करना बहुत ही आसान है।
  • सिप में लम्बी निवेश योजना के साथ-साथ छोटी निवेश योजना का प्लान बना सकते है।
  • कम पैसो के साथ निवेश योजना बनाकर मुनाफा कमा सकते है।
  • जिस व्यक्ति के पास ज्यादा पैसे नहीं हो या ज्यादा रिस्क नहीं लेना चाहता वह SIP में निवेश कर सकता है।
  • मार्किट में भारी उतार चढाव के बिच इन्वेस्टर्स के लिए SIP में निवेश करना फायदेमंद होता है।
  • इसमें आप मासिक, त्रेमासिक, अर्ध वार्षिक, वार्षिक के अनुसार अपनी निवेश योजना बना सकते है।
  • SIP में आप 100, 500, 1000 से 5000 रुपये या उससे अधिक की छोटी राशि के साथ निवेश योजना बना सकते हैं।
  • आप सिप में निवेश करके टैक्स में छूट पा सकते है।
  • निवेशक जरुरत के हिसाब से पैसा निकल सकते है। ज्यादातर निवेश प्लान में ऐसा नहीं होता है।

SIP में रिस्क क्या है? (Disadvantage of SIP)

एसआईपी (SIP) निवेश करने का अच्छा तरीका है लेकिन इसके साथ कुछ रिस्क भी जुड़े हुए है। चलिए जानते है वो रिस्क क्या है।

  • SIP में रिटर्न मार्किट की स्थिति पर निर्भर करता है।
  • म्युचुअल फण्ड में एसआईपी के जरिये इन्वेस्टमेंट किया जाता है।
  • यदि आपका निवेश जिस कंपनी के किया गया है उसकी बाजार स्थिति सही नहीं है तो आपका फण्ड डूबने का खतरा बना रहता है।
  • इसमें रिस्क के आधार पर निवेश होता है।
  • इसमें बैंक, RD (Recurring Deposit), FD (Fix Deposit) की तरह तय रिटर्न नहीं मिलता है।

सबसे अच्छा SIP कौन सा है? (Best SIP for Investment in Hindi)

यहाँ हम टॉप 5 SIP के नाम दे रहें है जो अभी तक निवेशकों को अच्छा रिटर्न देती आई है। आप अपने विवेक के हिसाब से किसी भी अच्छे म्यूच्यूअल फण्ड एसआईपी का चयन कर सकते है।

  • SBI Small Cap
  • Nippon India Small Cap
  • Meri Asset Emerging Bluechip Fund
  • Quant Tax Plan
  • Kotak Smallcap Fund
Video Credit: ACEink

इन्हें भी पढ़ें:

निष्कर्ष: SIP (Systematic Investment Plan) क्या है?

दोस्तों, उम्मीद है की मैंने आपको SIP क्या होता है? SIP में इन्वेस्टमेंट कैसे शुरू करें? के बारे में पूरी जानकारी दी है। और उम्मीद करता हु की एसआईपी के लाभ और नुकसान क्या है? आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा।

आपको कैसी लगी हमारी पोस्ट SIP क्या होता है? SIP में इन्वेस्टमेंट कैसे शुरू करें? हमें कमेंट बॉक्स में Comment करके जरूर बताये। इसके अलावा आपके मन में कोई सवाल है तो आप comment box में पूछ सकते है। मै पूरी कोशिश करूँगा आपके सवालो का जवाब देने की।

नमस्ते! मेरा नाम सोनू सिंह है और इस Best Hindi Blog पर अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से Blogging, Earn Money, बैंकिंग, इंटरनेट, टेक्नोलॉजी आदि से संबंधित उपयोगी और मददगार जानकारी शेयर करता हूं। साथ ही मैं WeKens.com का Founder भी हूं। हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद!

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.