Top 10 tallest statues in the world 2020

Top 10 tallest statues in the world 2020- दुनिया की 10 सबसे बड़ी मूर्तियां

There are many big statues in the world. And the competition for making big statues in the world has been going on since ancient times. With whom the news keeps on coming. Most of the statues are made of gods, great kings, great heroes, social reformers etc. This blog will tell you about the top 10 largest statues in the world 2019.

दुनिया में बहुत सी बड़ी स्टेचू है। और दुनियां में बड़ी स्टेचू बनाने की होड़ प्राचीनकाल से ही चली आ रही है। जिसको लेकर आये दिन खबरें आती रहती है। ज्यादातर मूर्तियां देवताओं, महान राजाओं, बड़े नायको, समाज सुधारको आदि की बनाई जाती है। इस ब्लॉग आपको वर्ष 2019 दुनिया की 10 सबसे बड़ी मूर्तियों के बारे में बताऊंगा।

1- Statue of Unity, India, 182 Meter

Height : 182 Meter (597 ft)

Location : Sardar Sarovar Dam, Gujrat, India

the iron man statue of india
The iron man statue of unity, india Credit of Image : Bhishnu Sarangi from Pixabay

The world’s tallest idol is that of ‘Sardar Vallabhbhai Patel’, the iron man of India. The height of this statue is 182 meters. This statue is so huge that it can be seen even from such a distance of 7 kilometers. It was established by Prime Minister of India, Narendra Modi, this statue is one of his favorite projects.

The idol is built in the Sardar Sarovar Dam near Vadodara city in the state of Gujarat. It has a great reputation for the late Indian leader from his homeland, the western state of Gujarat.

Sardar Vallabhbhai Patel served as the first Home Affairs Minister and Deputy Prime Minister after independence. The Iron man memorial is valued at around $ 200 million, placing it first on the list of tallest statues in the world.

स्टेचू ऑफ़ यूनिटी, गुजरात, इंडिया,182 मीटर

विश्व की सबसे ऊँची मूर्ति भारत के लोहपुरुष ‘सरदार वल्लभ भाई पटेल’ की है।  इस मूर्ति की ऊंचाई 182 मीटर है।  यह मूर्ति इतनी विशाल है की ऐसे 7 किलोमीटर की दूरी से भी देखा जा सकता है।  इसकी स्थापना  भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गयी थी  ये प्रतिमा उनकी सबसे पसंदीदा परियोजनाओं में से एक है।

Amazon Se Paise Kaise Kamaye- Online Affiliate Marketing

यह मूर्ति गुजरात राज्य के वडोदरा शहर के पास सरदार सरोवर बांध में बनाई गई है। यह उनकी मातृभूमि, गुजरात के पश्चिमी राज्य से दिवंगत भारतीय नेता के लिए एक बड़ी प्रतिष्ठा है।

सरदार वल्लभभाई पटेल ने आजादी के बाद पहले गृह मामलों के मंत्री और उप प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया। लोह पुरुष स्मारक की कीमत लगभग 200 मिलियन डॉलर है, जो दुनिया में सबसे ऊंची मूर्तियों की सूची में पहला स्थान रखता है।

2- Spring Temple Buddha, China, 153 meter

Height: 153 Meter (502 ft.)

Location : Lushan, Henan, China

Statue of Spring Temple Buddha china
Statue of Spring Temple Buddha china, Image Credit of image:  ZGPDSZZ ON WIKIMEDIA

It is set to be the second tallest statue in the world. It is located in Henan city of China. Its height is 153 meters (502 ft.). It was the second tallest statue in the world till 2018. But after making the Statue of Unity of India 182 meters (597 ft) in Gujarat, it became the second tallest statue in the world.

The construction work of this statue started in the year 1997 and its work was completed on 1 September 2008. The statue stands on a 20-meter-tall lotus flower throne, which has 1100 pieces of a copper cast. Its total weight is about 1000 tones.

The Spring Temple Buddha statue derives its name from a nearby hot spring. The Spring Temple is a Buddhist monastery under the Buddha statue. It was estimated to cost $ 55 million to build the Spring Temple Buddha.

स्प्रिंग टेम्पल बुद्ध, चीन, 153 मीटर

यह दुनिया की दूसरी सबसे ऊँची मूर्ति होने का कीर्तिमान स्थापित है।  यह चीन के हेनान शहर में स्थित है। इसकी ऊंचाई 153 मीटर (502 ft.)   है। यह 2018 तक दुनिया की दूसरी सबसे ऊंची प्रतिमा थी।  लेकिन गुजरात में भारत की एकता की प्रतिमा ऊंचाई  182 मीटर (597 फीट) बनाने के बाद यह दुनिया की दूसरी सबसे ऊँची प्रतिमा बन गयी। 

इस प्रतिमा का निर्माण कार्य वर्ष 1997 में शुरू हुआ और १ सितम्बर वर्ष 2008 में इसका कार्य पूरा हुआ।  यह प्रतिमा 20 मीटर लम्बे कमल के फूल के सिंहासन पर खड़ी है, जिसमे एक ताम्बे की डाली के 1100 टुकड़े है। इसका कुल वजन लगभग १००० टोन्स है। 

Read also: TikTok Followers Kaise Badhaye-2020 (Best Top 10 Real Tricks)

स्प्रिंग टेम्पल बुद्ध प्रतिमा का नाम पास स्थित गर्म पानी के झरने से पड़ा है।  स्प्रिंग टेम्पल बुद्ध प्रतिमा के निचे एक बौद्धा मठ है।  स्प्रिंग टेम्पल बुद्ध के निर्माण के लिए इसका अनुमान लागत $ 55 मिलियन था।

3- Laykyun Setkyar, Myanmar, 116 meter

Height: 116 Meter (380 ft.)

Location: Khatakan Taung, near Monywa, Sagaing Division, Mayanmar

statue of Laykyun Setkyar, Myanmar, 116 meter
statue of Laykyun Setkyar, Myanmar, image credit : Wagaung on English Wikipedia

It is the third tallest statue in the world. With a height of 116 meters (381 ft), it is located in the city of Moniva in Myanmar. Construction of Lakeyun Setyakar began in 1996 and was completed on 21 February 2008. The statue stands on a 13.5 m (44 ft) throne.

Read also: How to Get Followers on Twitter Free? Learn about 10 easy methods.

Tourists coming to this place can climb up for which a lift is installed inside the statue, by using the lift, tourists can enjoy the beauty of the city. Tourists can also see the 89-meter reclining Buddha next to the statue of Lakyun Setkyar.

लीयुन सेट्यकर, म्यांमार, 116 मीटर

यह दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची मूर्ति है।  जिसकी ऊंचाई 116 मीटर (381 फ़ीट)  है, जो म्यांमार के मोनिवा शहर में स्थित है। लेक्युन सेट्यकर का निर्माण 1996 में शुरू हुआ और 21 फरवरी 2008 में पूरा हुआ। यह मूर्ति 13.5 मीटर (44 फीट) सिंहासन पर खड़ी है।

इस जगह आने वाले पर्यटकों ऊपर चढ़ सकते है  जिसके लिए के लिए मूर्ति के अंदर लिफ्ट लगी है, लिफ्ट का प्रयोग करके पर्यटक शहर की खूबसूरती का आनंद ले सकते है।  पर्यटक लैक्युन सेटक्यार की मूर्ति के बगल में 89 मीटर लेटे हुए बुद्ध को भी देख सकते हैं।

4- Ushiku Daibutsu, Japan 110 meter

Height: 110 Meter (357 ft)

Location: Ushiku, Ibaraki Prefecture, Japan

statue of ushiku daibutsu japan
statue of ushiku daibutsu japan IMAGE CREDIT : NATUREPOST ON PIXABAY

The statue is located in Ibaraki city, Japan. The height is 120 meters (390 ft) long, which includes 10 meters (33 ft) base and 10 meters lotus platform. Its total weight is 4003 tons. Ushiku daibatsu means ‘great Buddha’ in Ushiku, located in the city of Ushiku, Japan. This Buddha statue is made entirely of bronze. This statue had the record of the highest statue for the year 1993-2008. As of 2019, it is one of the top five tallest statues in the world.

There are four different levels within the statue, tourists can reach the top using the lift. The first level tourists can listen to melodious music, the second level is completely devoted to scripture study, the third level is filled with 30000 Buddha statues. From the top level, visitors can see the beautiful gardens around the statue. It is also known as Ushiku ARCADIA (Radiation and Compression Actually Developing and Illuminating Area of ​​Amida).

उशीकू दाइबत्सू, जापान 110 मीटर

यह  मूर्ति इबाराकी शहर जापान में स्थित है।  जिसकी ऊंचाई 120 मीटर (390 फीट) लंबा है, जिसमें 10 मीटर (33 फीट) बेस और 10 मीटर कमल प्लेटफॉर्म शामिल है।इसका कुल वजन 4003 टन है।  उशीकू दाइबत्सू का अर्थ जापान के उशीकू शहर में स्थित उशीकू में ‘महान बुद्ध’ से है।  यह बुद्ध प्रतिमा पूरी तरह से कांस्य से बनी है।  इस प्रतिमा के पास वर्ष 1993-2008 की सबसे ऊंची प्रतिमा का रिकॉर्ड था। 2019  तक, यह दुनिया की शीर्ष पांच सबसे ऊंची मूर्तियों में से एक है।

Read also: Instagram Followers कैसे बढ़ाये?-100% ✓Free Tips 2020

मूर्ति के भीतर चार अलग-अलग स्तर हैं, पर्यटक लिफ्ट का उपयोग करके शीर्ष पर पहुंच सकते हैं। पहले स्तर के पर्यटक मधुर संगीत सुन सकते हैं, दूसरा स्तर पूरी तरह से शास्त्र अध्ययन के लिए समर्पित है, तीसरा स्तर 30000 बुद्ध  की प्रतिमाओं से भरा है। शीर्ष स्तर से, आगंतुक प्रतिमा के चारों ओर सुंदर बगीचा देख सकते हैं। इसे उशीकू ARCADIA (अमिडा के रेडिएंस एंड कम्पैशन एक्चुअली डेवलपिंग एंड इल्लुमिनेटिंग एरिया) के रूप में भी जाना जाता है।

5- Sendai Daikanan, Japan, 100 meter

Height : 100 meter (330 ft.)

Location: Sendai, Miyagi Prefecture , Japan

statue of Sendai Daikannon japan
Statue of Sendai Daikannon, Japan, CREDIT OF IMAGE: JAPANEXPERTERNA.SE ON FLICKR

This statue is a large statue of Nyorin Kannan, who holds the gemstone of Kannan in Sendai, Japan.

It is the tallest statue of Nyorin Kannan in the world, and the tallest statue of a goddess in Japan. As of 2018, it is one of the top five tallest statues in the world at 100 meters (330 ft). At the time of its completion in 1991, it was the tallest statue in the world. This statue had the record of the highest statue for the year 1993-2008.

The statue depicts Bodhisattva Kannan from Shingon Buddhism. Inside on the first floor are several large statues of Buddha and mythological kings. There is a lift for tourists and there are ramps and stairs to come down. At each level there are eight Buddha displays in wooden cabinets, 108 in all.

सेंदाई दाइकनन, जापान, 100 मीटर

यह मूर्ति  जापान के सेंदाई में स्थित कन्नन  के रत्न धारण करने वाले न्योरीन कन्नन की एक बड़ी प्रतिमा है।

यह दुनिया में न्योरीन कन्नन की सबसे ऊंची प्रतिमा है, और जापान में एक देवी की सबसे ऊंची मूर्ति है। 2018 तक, यह 100 मीटर (330 फीट) में दुनिया की शीर्ष पांच सबसे ऊंची मूर्तियों में से एक है। 1991 में इसके पूरा होने के समय यह दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा थी।  इस प्रतिमा के पास वर्ष 1993-2008 की सबसे ऊंची प्रतिमा का रिकॉर्ड था।

Read also: Instagram Followers कैसे बढ़ाये?-100% ✓Free Tips 2020

प्रतिमा में शिंगोन बौद्ध धर्म से बोधिसत्व कन्नन को दर्शाया गया है। पहली मंजिल पर अंदर बुद्ध और पौराणिक राजाओं की कई बड़ी मूर्तियाँ हैं। पर्यटकों के लिफ्ट की सुविधा है और निचे आने के लिए रैंप और सीढियाँ है। प्रत्येक स्तर पर लकड़ी के अलमारियाँ में आठ बुद्ध प्रदर्शित होते हैं, सभी में 108 है ।

6- Qianshou Qianyan Guanyin of Weishan, China, 99 meter

Height: 99 Meter (325 ft.)

Location: Weishan, Changsha, Hunan, China

Statue of Qianshou Qianyan Guanyin of Weishan china
CREDIT OF IMAGE: Dtr205 ON COMMONS WIKIPEDIA

This statue is located in Weishan, Changsha, Hunan, People’s Republic of China. The Guishan Guanin statue of Thousand Hands and Eyes is the sixth tallest statue in the world and the fourth largest in China. This bronze monument depicting Avalokiteshwara is 99 meters (325 ft) tall, completed in 2009 by the Kningsen County government with the help of local business and religious organizations. $ 260 million was invested in its construction.

वेइशान के कियानशो कियान्यान गुआनिन, चीन, 99 मीटर

यह प्रतिमा वेइशान, चांग्शा, हुनान, पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चीन में स्थित है। थाउज़ेंड हैंड्स एंड आइज़ की गुइशान गुआनिन प्रतिमा दुनिया की छठी सबसे ऊँची प्रतिमा है और और चीन की चौथी सबसे बड़ी प्रतिमा है। अवलोकितेश्वर का चित्रण करने वाला यह कांस्य स्मारक 99 मीटर (325 फीट) लंबा है,  इसका निर्माण कार्य  स्थानीय व्यापार और धार्मिक संगठनों की मदद से निंग्सन काउंटी सरकार ने वर्ष 2009 में पूरा किया था। इसके निर्माण में  260 मिलियन डॉलर का निवेश किया गया था।

7- Great Buddha of Thailand, Thailand, 92 meter

Height: 92 Meter (302 ft.)

Location: Ang Thong, Thailand

Statue of Great Buddha of Thailand
CREDIT OF IMAGE : Thaweesak Churasri ON WEKIPEDIA

This statue Wat Mung, Wisette Cha Chan, Ang Thong Province Thailand located in K Wat Mung Temple, the height of this statue is 92 meters (302 ft) high, its construction started in the year 1990, and was completed in the year 2008. Its color is of gold and is made of concrete. In it the Buddha is in a sitting posture which is called Maravijaya Attitude. It is currently the seventh tallest statue in the world and the tallest statue in Thailand.

The statue was built after the order of Phra Kru Vibul Arjarakhun, the first abbot of the Wat Mung Temple, to commemorate Bhoomibol, the king of Thailand. The statue was built using funds donated from faithful Buddhists considering it as an act of merit. The budget spent on the statue was about 104,200,000 baht. Now marking the fame of both Ang Thong Province and Thailand, the statue can be seen from afar.

थाईलैंड के महान बुद्ध, थाईलैंड, 92 मीटर

यह प्रतिमा वाट मुंग, विसेट चा चान, आंग थोंग प्रांत थाईलैंड के वाट मुंग मंदिर में स्थित, इस प्रतिमा की ऊंचाई  92 मीटर (302 फीट) ऊंची है,  इसका निर्माण कार्य वर्ष 1990 में शुरू हुआ, और वर्ष 2008 में पूरा हुआ। इसका रंग सोने का है और कंक्रीट से बना है। इसमें बुद्ध बैठे हुए मुद्रा में है जिसे मराविजय मनोवृत्ति कहा जाता है। वर्तमान में दुनिया की सातवीं सबसे ऊँची प्रतिमा है और थाईलैंड की सबसे ऊँची प्रतिमा है

Read Also: Amazon Seller Account कैसे बनाये? पूरी जानकारी हिंदी में

इस प्रतिमा का निर्माण थाईलैंड के राजा भूमिबोल की स्मृति में करने के लिए वाट मुंग मंदिर के प्रथम मठाधीश, फ्रा क्रु विबुल अरजरखुन के आदेश के बाद किया गया था। मूर्ति को योग्यता बनाने के कार्य के रूप में विचार करने वाले वफादार बौद्धों से दान किए गए धन का उपयोग करके बनाया गया था। मूर्ति पर खर्च किया गया बजट लगभग 104,200,000 baht था। अब अंग थोंग प्रांत और थाईलैंड दोनों की प्रसिद्धि को चिह्नित करते हुए, प्रतिमा को दूर से देखा जा सकता है।

8- Dai Kannon of Kita no Miyako park, Japan, 88 meter

Height: 88 Meter (289 ft.)

Location: Ashibetsu, Hokkaidō , Japan

Statue of Dai Kannon of Kita no Miyako park, Japan
CREDIT OF IMAGE : Stuart Rankin ON FLICKR

The statue is located in Ashibetsu, Hokkaido Province, Japan. Also known as Hokkaido Kannan. Its height is 88 meters (289 ft). It is the third tallest statue in Japan and the eighth tallest statue in the world. With Grand Buddha in Ling Shan. It was the tallest statue in the world from 1989 to 1991.

Read also: Blog Kaise Likhte Hai? ब्लॉग कैसे लिखते है ?

The planning of this statue began in the year 1975, and the construction work took place through the year 1989. The statue depicts Nguyen and is Keta no Miyako Park on Hokkaido Island. The statue consists of 20 floors with one room, with floors and places of worship, eight in total, and a stage that offers tourists a beautiful and enchanting view of the area.

केता न मियाको पार्क केाई कन्नन, जापान, 88 मीटर

यह प्रतिमा आशिबेत्सु, होक्काइडो प्रान्त , जापान में स्थित है। जिसे होक्काइडो कन्नन के रूप में भी जाना जाता है। इसकी ऊंचाई  88 मीटर (289 फीट) है।  यह जापान में तीसरी सबसे ऊंची प्रतिमा है और दुनिया की आठवीं सबसे ऊंची मूर्ति है। लिंग शान में ग्रैंड बुद्ध के साथ। यह वर्ष 1989 से 1991 तक  दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा थी। 

Read also: YouTube Se Paise Kaise Kamaye- Best Guide in Hindi

इस प्रतिमा की योजना वर्ष 1975 में शुरू हुई थी, और निर्माण कार्य वर्ष 1989 के माध्यम तक हुआ।   प्रतिमा गुयेन को दर्शाती है और होक्काइडो द्वीप पर केटा नो मियाको पार्क है। प्रतिमा में एक कमरे के साथ २० मंजिलें हैं, जिसमें फर्श और पूजा स्थल, कुल मिलाकर आठ और एक मंच है जो पर्यटकों को क्षेत्र का सुन्दर और मनमोहक  दृश्य प्रदान करता है। 

9- The Motherland Call, Russia, 85 meter.

Height: 85 Meter (279 ft.)

Location: Mamayev Kurgan; Volgograd , Russia

statue of The Motherland Call
Statue of The Motherland Call- CREDIT OF IMAGE-  Mohannad Marashdeh ON PEXELS

The statue is located near Mamayev Kurgan, Volgograd in Russia. Its height is 85 meters (279 ft). The memorial-ensemble centers on “Heroes of the Battle of Stalingrad”. It was designed by sculptor Yevgeny Vuchethik and structural engineer Nikolai Nikitin. It was declared the tallest statue in the world in the year 1967. It is currently the ninth largest statue in the world.

The work of sculptor Yevgeny Wucheth and engineer Nikolai Nikitin is that of a woman advancing with a raised sword. The statue is a supernatural image of the motherland, calling on its sons and daughters to return the enemy and return to the attack.

Read also: What is an email address and what is it used for

The construction of this monument started in May 1959 and was completed on 15 October 1967. It was the tallest statue in the world at the time of construction. The main monument of the memorial complex was renovated in 1972, when the sword was made entirely of stainless steel.

द मदरलैंड कॉल, रुस, 85 मीटर

यह प्रतिमा ममायेव कुरगन, वोल्गोग्राद के पास रुस में स्थित है। इसकी ऊंचाई 85 मीटर (279 फीट) है।  यह द  स्मारक-कलाकारों की टुकड़ी का केंद्र “स्टेलिनग्राद की लड़ाई के नायकों” पर है। इसे मूर्तिकार येवगेनी वुचेथिक और संरचनात्मक इंजीनियर निकोलाई निकितिन द्वारा डिजाइन किया गया था। इसे  वर्ष  1967 में दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा घोषित की गई थी। वर्तमान में यह दुनिया की नवीं सबसे बड़ी प्रतिमा है। 

मूर्तिकार येवगेनी वुचेथ और इंजीनियर निकोलाई निकितिन का काम एक उठाई हुई तलवार के साथ आगे बढ़ने वाली एक महिला का  है। प्रतिमा मातृभूमि की एक अलौकिक छवि है, जो अपने बेटों और बेटियों को दुश्मन को वापस करने और हमले पर लौटने के लिए बुलाती है।

इस स्मारक का निर्माण कार्य मई 1959 में शुरू हुआ और 15 अक्टूबर 1967 को पूरा हुआ। यह निर्माण के समय दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति थी। स्मारक परिसर के मुख्य स्मारक का जीर्णोद्धार कार्य 1972 में किया गया था, जब तलवार को पूरी तरह से स्टेनलेस स्टील से मिलकर बनाया गया था।

10- Awaji Kannan, Japan, 80 meter

Height: 80 Meter (260 ft.)

Location: Awaji Island, Hyōgo Prefecture, Japan

statue of Awaji Kannan, Japan
CREDIT OF IMAGE:
松岡明芳 ON WEKIMEDIA COMMONS

Awaji Kannan or Word Peace Giant Kannan is a museum and temple located in Awaji Island Hyogo Prefecture, Japan. The building is currently abandoned.

Read also: What is a Blogging? – Definition of Blog, Blogger in Hindi

Its construction started in the year 1977 and was completed by the year 1982. The statue is located on a 5-storey building, 20 meters (66 ft) high, with a sixth-floor observation deck. Okuchi managed the building until his death in 1988, after which his wife took over and continued working but he also died in 2006.

अवाजी कन्नन, जापान, 80 मीटर

अवाजी कन्नन या वर्ड पीस जायंट  कन्नन, एक संग्रहालय और मंदिर है अवाजी द्वीप ह्योगो प्रान्त, जापान में स्थित है । वर्तमान में इमारत को छोड़ दिया गया है।

इसका निर्माण वर्ष 1977 में शुरू हुआ था और वर्ष 1982  तक  पूरा हुआ। यह प्रतिमा 5 मंजिला इमारत पर स्थित है , जो 20 मीटर (66 फीट) ऊंची है, जिसमें छठी मंजिल अवलोकन डेक है। ओकुची ने 1988 में अपनी मृत्यु तक इस इमारत का प्रबंधन किया, उसके बाद उनकी पत्नी ने उन्हें संभाला और काम करना जारी रखा लेकिन 2006 में उनकी भी मृत्यु हो गई।

About Sonu Singh

Hello friends, I am Sonu Singh, Author & Co-Founder of wekens. Talking about education, I am a graduate. I love to learn and learn about technical news, top story, history. I request you that you keep supporting us in this way and we will continue to provide new information for you. #wekens Team, Digital India, Jai Hind

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.